Category: Vishnu

भागवान विष्णु के प्रिय भक्त शेषनाग से जुड़े आश्चर्य चकित करने वाले रहस्य, जिन्हे न आपने कभी सुना होगा न पढ़ा !

हमारे हिन्दू सनातन धर्म में भगवान विष्णु को पालनकर्ता कहा गया है, जगत के पालनकर्ता भगवान विष्णु के दो रूप कहे गए है एक तो उनका सहज एवं सरल …

आमलकी एकादशी का महत्व और विधि !

शास्त्रो के अनुसार फाल्गुन माह को पड़ने वाली शुक्ल एकादशी का बहुत अत्यधिक महत्व है. यह एकादशी रंगभरनी एकादशी और आमलकी एकादशी के नाम से भी जानी जाती है.इस …

जानिए भगवान विष्णु के परम भक्त की कथा, नन्द से कैसे बने देवऋषि नारद !

प्रभास क्षेत्र में ऋषियों का एक आश्रम था जहा नन्द नामक एक दासी पुत्र उन ऋषियों की सेवा किया करते थे. आश्रम में निवास करने वाले समस्त ऋषि नन्द …

जानिए आखिर क्या था नारद जी के इस प्रश्न का उत्तर, ”समस्त संसार का महान आश्चर्य” ?

युधिस्ठर द्वारा आयोजित अश्वमेघ यज्ञ समाप्त होने के बाद भगवान श्री कृष्ण द्वारिका वापस लोट आये. श्री कृष्ण के स्वागत में द्वारिका नगरी इस प्रकार सजी थी की किसी …

जब भगवान विष्णु को होना पड़ा शीशविहीन तथा प्राप्त हुआ अश्व का सर !

प्रचीन समय की बात है, भगवान विष्णु को दस हजार वर्षो तक निरंतर देत्यो के साथ युद्ध करना पड़ा. युद्ध की समाप्ति पर वे अपने निवास स्थान वैकुण्ठ धाम …

जानिये किसके श्राप के कारण भगवान विष्णु को सात बार मानव रूप में लेना पड़ा पृथ्वी पर जन्म !

जिस किसी व्यक्ति के कुंडली में यदि शुक्र का प्रभाव होता है उस व्यक्ति के पास भोग विलास की समस्त वस्तुए उपलब्ध होती है. परन्तु सब कुछ होने के …

आखिर क्यों क्रोध में आकर माँ पार्वती ने दिया अपने ज्येष्ठ पुत्र कार्तिकेय को श्राप !

एक दिन कैलाश पर्वत में भगवान शिव और माँ पार्वती के बीच चौसर का खेल खेला जा रहा था, इस खेल में माँ पर्वती बार-बार विजय हो रही थी …

एक असुर के कारण निर्मित हुआ ऐसा पवित्र तीर्थ स्थल जहा पितरो का श्राद करने से होती है उन्हें मोक्ष की प्राप्ति !

Gaya moksha dham: ब्रह्मा जी जब सृष्टि की रचना का कार्य कर रहे थे तो उसी दौरान उनसे असुर कुल में एक गय नामक असुर की रचना हो गई. …

जानिये कैसे प्राप्त हुई भगवान श्री कृष्ण को उनकी प्रिय बाँसुरी (वंशी) !

How krishna got his flute? अपने बाँसुरी की धुन से श्री कृष्ण न केवल गोपियों  बल्कि पुरे ब्रजवासियो के मन को हरते थे, उनकी बाँसुरी की धुन सुन गोपिया, …