Virupaksha Temple Hampi विरूपाक्ष टेम्पल हम्पी का इतिहास व् सब से प्रसिद्ध मंदिर

Virupaksha Temple History in Hindi

Virupaksha temple

Virupaksha Temple History in Hindi

शिव मंदिर विसे तो पुरे भारत देश में शिव मंदिर बहुत है| लेकिन हर मंदिर के पीछे एक राज होता है| ऐसे ही विरुपाक्ष मन्दिर स्टेट कर्नाटक सिटी हम्पी में स्थित एक शिव मंदिर हैं। यह नगर के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है। यह मंदिर करीब 15वीं शताब्दी में निर्मित जो की बाज़ार क्षेत्र में स्थित है। 1509 ई. में अपने अभिषेक के समय कृष्णदेव राय ने यहाँ गोपुड़ा का निर्माण करवाया था। मन्दिर के पूर्व में पत्थर का एक विशाल सुंदर नंदी है| जबकि दक्षिण की ओर गणेश की विशाल प्रतिमा है। जो की शिव जी के बेटे है| यह मंदिर देखने में मन को भा जाता है और जो इसके दर्शन करता है उससे सरे सुख प्राप्त होते है|

जानिए Kashi Vishwanath Temple varanasi history, katha,mandir, timing, niyam, pooja vidhi, rahasya

विउपक्षा कन्नड़ Virupaksha Temple in Kannada

Virupaksha temple

विरुपाक्ष मंदिर शिव मंदिर जो की पहाड़ियों व आसपास की अन्य पहाड़ियों की विशाल चट्टानों से घिरा हुआ है| और शिव मंदिर में चट्टानों का संतुलन हैरान कर देने वाला है। या बोल सकते है आकर्षित करने वाला है| कहा जाता है विरुपाक्ष मन्दिर आने वाला इन्शान को खुद स्वयं शिव भुलाते है| वर्ना वहा आना मुमकिन ही नही न मुमकिन है| यह मंदिर दक्षिण भारतीय द्रविड़ स्थापत्य शैली को दर्शाता है और ईंट तथा चूने से बनाया गया है। बंगलौर से कम से कम 350 किलोमीटर की दूरी पर यह मंदिर भारत के कर्नाटक राज्य जो की हम्पी शहर में स्थित है। इस मंदिर के पास छोटे-छोटे मंदिर है जो अन्य देवी देवताओं के है|

Temple बिल्पंक Virupaksha Temple Bilpank

Virupaksha temple

Temple बिल्पंक Virupaksha Temple Bilpank

विम्पाक्ष मंदिर हम्पी में तीर्थ यात्रा करने का मुख्य केंद्र है| और कही सालो से यह मंदिर विशाल मंदिर माना गया है| विरुपाक्ष मन्दिर में भूमिगत शिव मन्दिर भी है। इस मंदिर में भगवान शिव की पूजा कि जाती है। मन्दिर का बड़ा हिस्सा पानी के अन्दर समाहित है| इसलिए वहाँ कोई आ जा नही सकता। बाहर के हिस्से के मुक़ाबले मन्दिर के इस हिस्से का तापमान बहुत कम रहता है। यहाँ लोगो की भीड़ हमशा ही रहेती है|

विरूपाक्ष टेम्पल का नक्षा Temple Architecture

"विरूपाक्ष

विरूपाक्ष टेम्पल का नक्षा Temple Architecture

पहले के समय में इस मंदिर में केवल कुछ ही मूर्तियां थी| लेकिन लोगो की आस्था विशवास के साथ यह मंदिर एक विशाल मंदिर भवन में विकसित हो गया। जो विजयनगर की वास्तुकला शैली को दर्शाता है। याजने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च हैं। हवाई जहाज़, रेल व सड़क मार्ग द्वारा पहुँचा जा सकता है। नज़दीकी बेल्लारी हवाई अड्डा और नज़दीकी होस्पेट रेलवे स्टेशन हैं।

Live Virupaksha Temple

Virpaksha temple

Live Virupaksha Temple

रावण ने शिव को ही लंका चलने का न्यौता दिया|  लेकिन भगवान शिव ने मना करते हुए उन्हें एक शिवलिंग दिया। भगवान शंकर ने रावण को शिवलिंग देते हुए कहा कि इसे कहीं भी धरती पर मत रखना। यदि इसे कहीं रख दिया तो यह शिवलिंग वहीं स्थापित हो जाएगा। फिर इसे हटाया नहीं जा सकेगा। रावण शिवलिंग लेकर लंका की तरफ चल दिया। रास्ते में किसी वजह से रावण को रुकना पड़ गया। उसने एक बुजुर्ग को शिवलिंग पकड़ा कर कहा कि इसे जमीन पर मत रखना। लेकिन जब तक रावण आता वह बुजुर्ग उसे जमीन पर रख चुका था। रावण ने काफी प्रयास किया कि वह शिवलिंग को अपने साथ ले जा सके| लेकिन वह उसे हिला तक नहीं सका। आखिरकार रावण शिवलिंग छोड़कर लंका चला गया। तब से वह शिवलिंग यहीं है।

जानिए शिव का स्तम्भेश्वर मंदिर, हर रोज होता है गायब

हम्पी टेम्पल इतिहास Hampi temple history

हम्पी टेम्पल इतिहास Hampi temple history

Hampi temple history

हम्पी एक गाँव का नाम व् मंदिरों से गिरा हुआ शहर है|  हम्पी में हमें बहुत से इतिहासिक स्मारक और धरोहर दिखायी देते है। हम्पी भारत के उत्तरी कर्नाटक में स्थित है। अपने समय में यह दुनिया के सबसे विशाल और समृद्ध गाँवों में से एक हुआ करता था|  यह विजयनगर शहर के खंडहरों में ही स्थित है| और यह जगह अपने ज़माने में विजयनगर साम्राज्य की राजधानी हुआ करती थी। हम्पी धर्म के लोग भी विजयनगर में ही रहते थे| और उन्होंने अपने साम्राज्य में विरूपाक्ष मंदिर और बहुत से इतिहासिक स्मारकों का निर्माण भी किया था।

Facts about Temple

Facts about Temple

Facts about Temple

कहा जाता है कि हम्पी के हर पत्थर की कहानी है। यहाँ दो पत्थर त्रिकोण आकार में जुड़े हुए हैं। मंदिर से लगा हुआ जो रोड है| वहा एक समय में घोड़ो को बेचने का बाज़ार हुआ करता था। आज भी वह बाज़ार खंडहर के रूप में दिखाई देता है। मंदिर में भी हमें घोड़े बेचने वाले कुछ लोगो के छायाचित्र दिखाई देते है|  कहा जाता है कि एक समय था जब हम्पी रोम से भी समृद्ध नगर था। प्रसिद्ध मध्यकालीन विजयनगर राज्य के खण्डहर वर्तमान हम्पी में मौजूद हैं। इस साम्राज्य की राजधानी के खण्डहर संसार को यह घोषित करते हैं| याजने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च हैं।  हवाई जहाज़, रेल व सड़क मार्ग द्वारा पहुँचा जा सकता है। नज़दीकी बेल्लारी हवाई अड्डा और नज़दीकी होस्पेट रेलवे स्टेशन हैं। यहाँ मंदिरों की ख़ूबसूरत शृंखला है|  इसलिए इसे मंदिरों का शहर भी कहा जाता है।