Shiv Parivar की क्या मान्यता है आकिर क्यों पूजा जाता है उन्हें शिवलिंग के रूप में..

Shiv parivar

shiv parivar

परिवार हर किसी का होता है चाहे वो इंसान हो या भगवान| ऐसे ही आज बात करेगे शिव जी के परिवार (shiv Privar ) के बारे में| आखिर आज हम शिव जी के परिवार (shiv parivar members) के बारे में क्यों बात कर रहे है आइये जानते है| शिव के परिवार में अद्भुत बात है। एकता और प्रेम में संतुलन यह शिव परिवार से ही सीखा जा सकता है। अगर कभी भी परिवार की बात होती है| तो शिव जी के परिवार का ही उदारण दिया जाता है| शिव परिवार में भगवान शिव, माता पर्वती, उनके दोनो बेटे भगवान गणेशकार्तिके है।

पूजा तरीका Shiv Parivar Puja At Home

shiv parivar
shiv parivar की पुजा करने से घर में सुख शांति आती हैऔर प्रेम बना रहेता है| घर में चल रहे गृह कलह शांत होने लगते है क्रोध कम होता है| पति /पत्नी और माता /पिता व् भाई /बहन व अन्य परिवारजनो के बीच में प्यार बढता व मधुर संबंध बनते है| परिवार हंसी खुशी आपने जीवन को बढता है। अगर आप परिवार कलह से परेशान या परिवार जनों के बीच मधुर संबंध कम होता जा रहा है| या ख़त्म हो चूका है तो शिव परिवार पुजा (shiv parivar puja ) जरुर आपने घर में करवाये। शिव परिवार पुजा करने के बाद आप अपने जीवन में जरुर परिवर्तन देखेगें।

शिव मंत्र Shiv Parivar Mantra

shiv parivar

जानिए Andhak Vadh क्या शिव का गुस्सा बना अपने ही बेटे की मृत्यु का कारण या कुछ और है

शिव जी और उन के परिवार की कृपा पाने के लिए वैसे तो पूजा पाठ और व्रत भी किये जाते है| लेकिन उन्हें के साथ ही एक ऐसा उपाय करना बहुत जरुरी होता है| जो जल्दी ही शिव परिवार की कृपा पाने में सहायक होता है| जैसे कई लोग भगवान को प्रसन करने के लिए व्रत पूजा पथ आदि करते है| लेकिन कई बार व् असफ़ल हो जाते है| उसका कारण हो सकता है पूजा में कमी| तो आज हम आपको बताए गे की आप कैसे शिव परिवार को प्रसन कर सकते है| जब भी भगवान की पूजा करे उसके बाद अपने यह मंत्र का उचारण करना है 108 बार| लेकिन ध्यान रहे 108 बार स्थापित करते समय और डेली के लिए 1 बार पूजा के बाद| भगवान गणेश – ओम गण गणपाते नम:, भगवान पर्वती – ओम महागौरी नम:, भगवान कृतिक – ओम कृतिकेय नम:, भगवान शंकर – ओम नम: शिवाय|

पुजन सामाग्री Shiv parivar pooja upay

shiv parivar

पूजा करते समय ध्यान रहे की जब भी आप पूजा करे तो यह पुजन सामाग्री आपके पास होनी चाइये| क्यों की इन पुजन सामाग्री के बिना पूजा अधुरीमानी जाती है तो आइये जानते है क्या है| पूजा पुजन सामाग्री भगवान गणेश, भगवान शंकर, भगवान कृतिकमाता पर्वती की प्रतीमा( Shiv Parivar Murti ), गंगाजल, हल्दी, मोदक,चावल, आसान,बेलपत्र,धतुरा, शहद , दुध,दही आदि |

पुजा के लाभ keeping shiv parivar at home

shiv parivar

 

शिव परिवार की अगर आप पूजा करते है तो आपको उसके क्या लाभ होते है आइये जानते है| आगर आप शिव परिवार की इस प्रकार पूजा करते है| तो आपको लाभ अवस्य होता है| जैसे घर में सुख शान्ति रहेती है, घर कलह से मुक्ति होता है, घर व परिवार सुख शांति रहेती है, परिवार जनो के बीच में आपसी प्रेम बढेगा, अगर परिवार के किसी सदस्य के साथ आपकी अनबन चल रही है| तो वो जल्द ही मनमुटाव दूर होता है|

पुराणी कथा shiv parivar aarti story

shiv parivar

शिव परिवार के मुखिया महादेव शंकर की अद्भुद महिमा है| भारतवर्ष में उनकी पूजा उत्तर से दक्षिण तक अनेक रूपों में होती है| महाशिवरात्रि में इनकी आराधना घर घर होती है| महिलाये सौभाग्य और समृधि के लिए शिव पार्वती की पूजा चौथ को भी करती है| तीज एवं गणगौर पर्व इन्ही को समर्पित है| शिव परिवार की पूजा देवताओ की तरह पूजे जाते है| ऐसा बहुत कम परिवारों के साथ होता है| शिव परिवार के मुखिया स्वयं शिव नही है देवी पार्वती है| उनके दोनों पुत्र कार्तिकेय और गणेश विश्व भर में पूजे जाते है| इनके अतिरिक्त इस परिवार में इन सब के वाहन भी शामिल है| महादेव का वाहन नन्दी वृषभ तो उनके साथ हर मन्दिर में रहता है| गौरी का वाहन सिंह आवश्यकता पड़ने पर उपस्थित रहता है| कार्तिकेय कुमार का वाहन मयूर और गणेश का वाहन मूषक सुविदित है |

सावधान!! भगवान शिव की घर में फोटो लगाते समय न करे ऐसी गलती, होती है धन हानि

Shivlinga शिवलिंग क्या है?

shiv parivar

शिवलिंग भगवान शंकर का प्रतीक है। जिसमे से शिव का अर्थ है ‘कल्याणकारी‘और लिंग का अर्थ है’सृजन’। जो भी भगवान शिव का भक्त होता है| वो शिवलिंग की पूजा करता है और उससे उसे बहुत चमत्कारी गुण मिलते है और उसकी हर मनोकामना पूरी होती है| लिंग की पूजा से ही भगवान शिव की पूजा होती है| और अन्य देवी-देवताओं की मूर्तियों की पूजा की जाती है| वही शिव जी की पूजा सिर्फ लिंग के रूप में की जाती है। आज हम आपको बताएगे की क्यों शिवलिंग की पूजा की जाती है? और लिंग का क्या महत्व है|

परिवार मूर्ति Shiv parivar murti

shiv parivar

भगवान शिव की पूजा हम लिंग के रूप में ही क्यों करते हैं| चाहे मंदिर हो या घर हो भगवान की पूजा करने का विधान शिवलिंग से ही है| यहाँ तक कि मंदिरों में भी लिंग की ही पूजा होती है। और अन्य देवी-देवताओं की मूर्तियों की पूजा होती है। तो ऐसा क्यों है कि शिव की पूजा शिलिंग के रूप में होती है? क्या महत्त्व है इसका? क्युकी बात यह है शिव लिंग को शक्ति और शाक्यता के रूप में पूजा जाता है। शिवलिंग में योनि को मां शक्ति का प्रतीक माना जाता है। और शिव लिंग यह दर्शाता है कि पूरा ब्रह्माण्ड पुरुष और महिला की ऊर्जा से बना है।

शिव को गुस्सा दिलाती है ये 3 चीज़ भूल से भी ना करे अर्पित बनोगे महापाप के भागी