Gomati chakra mala 100% Effective Benefits & Upay to become more richer

Gomati chakra mala

Gomati chakra mala को संस्कृत में धेनुपदी कहा जाता है| यह गोमती चक्र समुद्र में पाया जाता है। दक्षिण भारत में इसे गोमथी चक्र कहा जाता है| पौराणिक काल में यह यज्ञवेदी के चारो ओर लगाया जाता था। राज तिलक के समय इसे सिंहासन के ऊपर छत्र पर लगाया जाता था। गोमती चक्र से अनूठी व माला भी बनाई जाती है| इस को अगर आप गौर से देखते है| तो इसमें हिन्दी का सात अंक लिखा दिखाई देता है, जो राहु का अंक है। और इससे धारण करने से राहु वश में रहेता है| जल में पाये जाने के कारण यह चंद्र गुणों से परिपूर्ण होता है|  तथा उसके अन्दर सात लिखा होने के कारण राहु संबंधी समस्या से भी छुटकारा मिलता है|  कुंडली में राहु-चंद्र की युति हो तो इसे अवस्य धारण करना चाइये।

Gomati chakra mala

जानिए Gomati chakra से जुड़े अनसुने रहस्य जो आपको माला माल कर देगे..!!

History Gomati chakra mala

गोमती चक्र को आज भी कई गांवों में पशुओं के गले में गोमती चक्र को लाली कपड़े में बांध कर पहना देते हैं। और बहुत से किसान अपने खेत के चारो कोनो में इसे दबा हैं। यह आपको कही भी सरलता से बहुत ही कम कीमत में मिल जाता है। यह आपको पूजन सामग्री बेचने वाली दुकानों में भी मिल सकता है। ज्योतिष के अनुसार गोमती चक्र को अत्यंत महत्वपूर्ण बताया गया है। इसकी सहायता से जीवन की किसी भी समस्या से मुक्ति पायी जा सकती है| परंतु इसके लिए उन्हें अभिमंत्रित करना आश्यक है। वैसे तो हमारे द्वारा आपको बताया जाएगा की कैसे करे इसे अभिमंत्रित|

Gomati chakra mala

गोमती चक्र अभिमंत्रित कैसे करें Abhimantrit Gomati chakra

जब भी आप इसे घर लाए तो आपको इसे अभिमंत्रित करने के लिया कोई भी शुभ महूरत चुन ले| फिर आपने गोमती चक्र अभिमंत्रित करने के लिए 11 अथवा 21की संख्या में गोमती चक्र लेकर अपने पूजा स्थल पर स्थापित करें। विधिवत पूजा करें तथा निम्नलिखित मंत्र का 21 माला जप करें- ओम् श्रीं नमः| इस जाप के बाद गोमती चक्र अभिमंत्रित हो जाता है| पूजा के बाद इसे धन रखने वाले स्थान पर रख दें या आप इसकी mala को अपने गले या रिंग को उँगली में धारण कर सकते है| तथा नित्य धूप-दीप दिखांए। उदाहरण के लिए ऊपर वर्णित से लक्ष्मी प्राप्ति में सहायता मिलती है| और यदि बीमारियों की वजह से परेशान हो तो आपको इसकी बनी माला को धारण करना चाइये|

Gomati chakra benefits in hindi स्वास्थ्य लाभ के लिए

इस जाप के बाद गोमती चक्र Gomati chakra mala अभिमंत्रित हो जाता है तथा पारिवार को आर्थिक सम्पन्नता प्रदान करता है। पूजा के बाद इसे धन रखने वाले स्थान पर रख दें तथा नित्य धूप-दीप दिखांए। विशेषज्ञों का मानना है कि अलग अलग अभीष्ट के लिए इसे अभिमंत्रित करने की विधि भी अलग होती है| उदाहरण के लिए ऊपर वर्णित से लक्ष्मी प्राप्ति में सहायता मिलती है| यदि बीमारियों की वजह से परेशान हो तो नीचे लिखी विधि अपनाएं|

Gomati chakra mala

जानिए घर पर पूजा करने की सही विधि और उससे संबंधित 30 आवश्यक नियम !

How to keep Gomati chakra

गोमती चक्र Gomati chakra mala जाप के बाद अभिमंत्रित हो जाता है| इसे किसी सुरक्षित स्थान जैसे मंदिर में रख दें तथा नित्य धूप-दीप दिखाते रहें। स्वास्थ्य संबंधी समस्या आने पर एक गिलास गंगाजल में गोमती चक्र डाल दें तथा उपर्युक्त मंत्र का जाप 21 बार करते हुए रोगी को पिला दें। अभिमंत्रण का प्रभाव तीन वर्ष तक रहता है, 3 वर्ष बाद पुनः अभिमंत्रित करें।

Importance of Gomati chakra गोमती चक्र के टोटके/उपाय/फायदे

Gomati chakra mala

Importance of Gomati chakra

यह गोमती चक्र के अलग-अलग फायदे होते है| गोमती चक्र उपयोग कर किसी भी समस्या का समाधान किया जा सकता है। आर्थिक समस्या दो तीन कारणों से आती है, प्रथम आमदनी का स्त्रोत बंद जाना, आमदनी से ज्यादा खर्च होना, कारोबार में पैसा अटक जाना अथवा दिया हुआ कर्ज वापस न आना। इन सब का समाधान इस गोमती चक्र में है आइये जानते है| यदि पैसा हाथ में नहीं ठहरता हो तो महीने के पहले सोमवार को 21 गोमती चक्र लाल या पीले रेशमी कपड़े में बांधकर रूपया-पैसा रखने वाले स्थान पर रखें। यह उपाय करते हुए देवी लक्ष्मी से अपने घर में वास करने की प्राथना करे| और ऐसा करते हुए कपड़े में बंधे गोमती चक्र लेकर पूरे घर में घूमें तथा बाहर निकलकर किसी मंदिर में रख दें।

Gomati chakra mala pendant benefits

यदि अत्यधिक परिश्रम के बाद भी आर्थिक स्थिति में सुधार न हो रहा हो तो| गुरूवार को घर के पूजा स्थल में लक्ष्मी-नारायण के चित्र के समक्ष 21 गोेमती चक्र Gomati chakra mala पीले या लाल कपड़े में बांध कर रखें। लक्ष्मी-नारायण से अपने कृपा करने की याचना करें तथा ओम नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का तीन माला नित्य जाप करें। नियमित रूप से सवा महीने तक जाप करने के उपरांत एक वृद्ध तथा एक कन्या को भोजन करवाएं दक्षिणा देकर विदा करें।

Gomati chakra mala

Gomati chakra ring benefits

यह चक्र अंगूठी में और mala में बनी भी आती है| इनके एक तरफ उठी हुई सतह होती है और दूसरी तरफ चक्र होता है। इन चक्रों को लक्ष्मी जी का प्रतीक माना जाता है। जो की आपको कभी भी लक्ष्मी की कमी नही होने देती| इससे धारण करने से पैसा खुद लोट कर वापस आपके पास आता है और कामयाबी दुगनी करता है| जिस इन्शान को कोई भी परेशानी हो अगर वो यह गोमती चक्र से बनी अंगूठी धारण करता है| उसके घर में परिवार में पैसे की परेशानी दूर हो जाती है|

Gomati chakra mala

Other benefits for Gomati chakra mala in hindi

 

यदि किसी व्यक्ति या बच्चे को बार-बार नजर लग जाती है| तो आपको एक छोटा सा उपाय करना होगा किसी निर्जन स्थान पर जाकर 3 गोमती चक्रों Gomati chakra mala को अपने उपर से 7 बार उतार कर अपने पीछे फेंक दें| पीछे पीछे मुड़कर न देंखे। ऐसे करने से कैसी भी नज़र हो मिनटों में उतर जाता है| और अगर आपको निरन्तर आर्थिक हानि उठानी पड़ रही है| तो सोमवार के दिन 11 अभिमंत्रित गोमती चक्रों का हल्दी से तिलक कर के पीले कपड़ें में बांधकर पूरे घर में घुमाकर किसी बहते हुये जल में प्रवाहित करें। इससे लाभ मिलता है|

Gomati chakra mala

Gomati chakra wear in which finger when to wear Gomati chakra ring

गोमती चक्र अंगूठी को आपने जब भी धारण किया तो एक बात का ध्यन रखना जरुरी है| की इस रिंग को किस उँगली में धारण करना है| यह बात बहुत ही जरुरी है क्यों की अगर आप इस चीज का ध्यान नही रखते तो आपको फायदा नही होता| यह राशी के अनुसार धारण की जाती है और इसको धारण करने के भी नियम होते है| और उन लोगो के लिए जिन की राशि में राहू का प्रवेश हो चूका है| तो हमारे pandit द्वारा जानिए आपकी राशि के हिसाब से किस में धारण करे और शुभ समय क्या होगा|

Gomati chakra mala

Gomati chakra mala

जानिए ज्योतिष द्वारा 7 अगस्त से पहले करे 11 पीली कौड़ियों का ये उपाय लूटेगा कुबेर का खजाना