क्या आप जानते है विष्णु ने किया एक ठाकुर को भयंकर पाप से मुक्त

janiye कामिका एकादशी व्रत विष्णु ने किया एक ठाकुर को भयंकर पाप से मुक्त”>

कामिका एकादशी व्रत| Kamika Ekadashi 2018

आ रही है 8 अगस्त को कामिका एकादशी जो इस बार बहुत खास है. आइये जानते है क्या होती है यह कामिका एकादशी? कामिका एकादशी श्रावण माह के कृष्ण पक्ष को मनाई जाती है. विष्णु भगवान की पूजा अर्चना के लिए का सर्वश्रेष्ठ समय कामिका एकादशी माना जाता है . इस व्रत को करने से सारे पाप नष्ट हो जाते है और जीवात्मा को पाप से मुक्ति मिलती है. जो भी इन्शान यह एकादशी का व्रत रखता है उसके कष्टों का निवारण अथवा मनोवांछित फल प्रदान होता है. श्री विष्णु भगवान का जो महान व्रत माना जाता है वो कामिका एकादशी है. भगवान श्रीकृष्ण ने स्वयं इस एकादशी की कथा धर्मराज युधिष्ठिर को सुनाई थी.

क्या विष्णु है ब्रह्माण्ड के करता और जानिए कैसे बना ब्रह्माण्ड का सबसे मजबूत अश्त्र ?

कामिका एकादशी व्रत| Kamika Ekadashi 2018

 Kamika Ekadashi 2018 Importance| कामिका एकादशी महत्व

कामिका एकादशी भगवान विष्णु के नाम से रखा जाता है यह व्रत पुरे लोग में बहुत ही महान व् उत्तम व्रत माना जाता है. जो भी इन्शान यह व्रत रखता है उसके सारे पाप का नाश होता है और साथ ही मनचाहा फल की प्राप्ति होती है. इस एकादशी के दिन भगवान श्री कृ्ष्ण की पूजा करने से मनचाहा फलों की प्राप्ति होती है. इस दिन तीर्थ स्थलों में विशिष स्नान दान करने की प्रथा भी रही है इस एकादशी का फल अश्वमेघ यज्ञ के समान होता है. इस एकादशी का व्रत करने के लिये प्रात: स्नान करके भगवान श्री विष्णु को भोग लगाना चाहिए. आचमन के पश्चात धूप, दीप, चन्दन आदि पदार्थों से आरती करनी चाहिए|

और जानिए मोहनी एकादशी यदि कल भगवान विष्णु पर अर्पित कर दी ये चीज़ आपकी 7 पुस्ते भी पैसो में करेंगी आराम

Kamika Ekadashi 2018 Importance| कामिका एकादशी महत्व

एकादशी कथा | Kamika Ekadashi Katha

कामिका एकादशी कथा- बहुत समय की बात है एक गांव में एक ठाकुर जी रहते थे. और वो ठाकुर बहुत ही क्रोधी इन्शान थे. फिर एक दिन ठाकुर का एक ब्राह्मण से झगडा हो गया और क्रोध में आकर ठाकुर से ब्राह्मण का खून हो गया. अत: अपने अपराध की क्षमा याचना हेतु ब्राहमण की क्रिया उसने करनी चाहीए परन्तु पंडितों ने उसे क्रिया में शामिल होने से मना कर दिया और वह ब्रहम हत्या का दोषी बन गया. परिणाम स्वरुप ब्राह्मणों ने भोजन करने से इंकार कर दिया. तब उन्होने एक मुनि से निवेदन किया कि हे भगवान, मेरा पाप कैसे दूर हो सकता है.
एकादशी कथा | Kamika Ekadashi Katha

Kamika Ekadashi Vrat in hindi

यह बात सुन कर मुनि ने उसे बताया की कामिका एकाद्शी व्रत करने से आपके सारे पाप नष्ट हो जाएगे. ठाकुर ने वैसा ही किया जैसा मुनि ने उसे करने को कहा था. जब रात्रि में भगवान की मूर्ति के पास जब वह शयन कर रहा था. तभी उसे स्वपन में प्रभु दर्शन देते हैं और उसके पापों को दूर करके उसे क्षमा दान देते हैं| जब से ही यह व्रत सब व्रत से महान माना गया है जो भी इन्शान अपने जीवन में गलती करता है और अपराध की क्षमा याचना चाहता है उसे यह व्रत करना चाइये|

क्या आपको भी पता है नही पता तो जान ले सुबह उठते ही सबसे पहले किसके दर्शन करने चाहिए

Kamika Ekadashi Vrat in hindi 

एकादशी पूजा-विधि | Kamika Ekadashi Puja Vidhi

यब व्रत भगवन विष्णु के लिए किया जाता है क्यों की भगवान विष्णु ही धरती के करता डरता है| एकादशी के दिन स्नानादि करने के बाद संकल्प करके श्री विष्णु के विग्रह की पूजन करे. और फर पूजन में भगवान विष्णु को फूल, फल, तिल, दूध, पंचामृत आदि नाना पदार्थ निवेदित करके, यह पूजा निर्जल रहकर विष्णु जी के नाम का स्मरण व् पूजा करनी चाइये. एकादशी व्रत में ब्राह्मण भोजन एवं दक्षिणा का बड़ा ही महत्व है अत: ब्राह्मण को भोजन करवाकर दक्षिणा सहित विदा करने के पश्चात ही भोजना ग्रहण करें. इस प्रकार जो कामिका एकादशी का व्रत रखा जाता है और जो इस प्रकार व्रत रखता है उसकी हर कामनाएं पूर्ण होती हैं|

भगवन विष्णु का राज जानिए कैसे प्राप्त हुआ भगवान विष्णु को सुदर्शन चक्र ?

एकादशी पूजा-विधि | Kamika Ekadashi Puja Vidhi

मान्यता एकादशी व्रत की

इस एकादशी के विषय में यह मान्यता है, कि जो मनुष्य़ सावन माह में भगवान विष्णु की पूजा करता है, उसके द्वारा गंधर्वों और नागों की सभी की पूजा हो जाती है. लालमणी मोती, दूर्वा आदि से पूजा होने के बाद भी भगवान श्री विष्णु उतने संतुष्ट नहीं होते, जितने की तुलसी पत्र से पूजा होने के बाद होते है. जो व्यक्ति तुलसी पत्र से श्री केशव का पूजन करता है. उसके जन्म भर का पाप नष्ट होते है. इस एकादशी की कथा सुनने मात्र से ही यज्ञ करने समान फल प्राप्त होते है. कामिका एकादशी के व्रत में शंख, चक्र, गदाधारी श्री विष्णु जी की पूजा होती है. जो मनुष्य इस एकाद्शी को धूप, दीप, नैवेद्ध आदि से भगवान श्री विष्णु जी कि पूजा करता है उस शुभ फलों की प्राप्ति होती है|
मान्यता एकादशी व्रत की

शुभ महूरत तिथि समय (AMIKA EKADASHI 2018)

कामिका एकादशी 2018 व्रत तिथि व मुहूर्त
कामिका एकादशी व्रत तिथि – 7 अगस्त 2018, मंगलवार

पारण समय – 13:45 से 16:24 (8 अगस्त 2018)

एकादशी तिथि प्रारंभ – 07:52 बजे से (7 अगस्त 2018)

एकादशी तिथि समाप्त – 05:15 बजे (8 अगस्त 2018)
शुभ महूरत तिथि समय (AMIKA EKADASHI 2018)

ज्योतिष अनुसार गुरूवार व्रत विशेष , मिलेगा 100 गुना पुण्य