Shani jayanti 2018- करे शनि देव की इस प्रकार पूजा होगा कुंडली में शनि ग्रह प्रबल

Shani jayanti in hindi – शनि देव कथा

Jyotish and Astrologers Shani jayanti 2018 के अनुसार शनिदेव का जन्म हिन्दू चान्द्र मास वैशाख में अमावस्या तिथि को हुआ था| इस वर्ष 2018 को शनि जयंती 17 मई मंगलवार को है | सूर्यदेव और छाया देवी की द्वितीय संतान  है शनि देव और उन्हें भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त है| क्योंकि उनकी मां ने एक कड़ी तपस्या की थी जब शनिदेव उनके गर्भ में थे| शनि जयंती अगर आप मंदिर में जा कर तिल व् तेल अर्पित करते है तो इस दिन शनि देव प्रशन होते है| और वो आपके दुख दूर करके आपको सदेव खुशिया देते है| वैसे तो हर शनिवार को तिल व् तेल अर्पित करना  चाइये लेकिन अगर आप ऐसा नही करते तो शनि जयंती वाले दिन अवश्य करे |आइये जानते है शनि जयंती वाले दिन क्या न करे ??

शनि देव को प्रशन करने के उपाय- Shani jyanti 2018 important :-

यज्ञ अनुष्ठान, मंदिरों में तिल के तेल तथा अन्य दान कृत्यों में भाग लेने से आपको shanidev की विशेष कृपा प्राप्त होती है| Shani jayanti 2018 : ज्ञान, बुद्धि एवं प्रगति के स्वामी गुरु का भी शनि के नक्षत्र में होने से इस वर्ष का शनि जन्मोत्सव दिवस आलस्य, कष्ट, विलंब, पीड़ानाशक होकर भाग्योदय कारक बनाने के लिए दुर्लभ अवसर है। ऐसा कहा गया है की एक सजन आदित्यनाथ जी के कुंडली में शनि ग्रह बहुत ही प्रबल है जिसकी वजह से वो आज इस पद पर पहुंच गए |
शनि देव बदलेंगे अपनी चाल, 26 से बदल जाएगी सबकी किसमत जानने के लिए click here

Shani jayanti 2018

पूजा विधि – pooja vidhi

शनि जयंती Shani jayanti 2018 पर  लाभ प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम स्नानादि से शुद्ध होकर एक लकड़ी के पाट पर काला कपड़ा बिछाकर उस पर शनिजी की प्रतिमा या फोटो या एक सुपारी रख उसके दोनों ओर शुद्ध घी व तेल का दीपक जलाकर धूप जलाएँ। इस शनि स्वरूप के प्रतीक को जल, दुग्ध, पंचामृत, घी, इत्र से स्नान कराकर उनको इमरती, तेल में तली वस्तुओं का नैवेद्य लगाएँ। नैवेद्य के पूर्व उन पर अबीर, गुलाल, सिंदूर, कुंकुम एवं काजल लगाकर नीले या काले फूल अर्पित करें। नैवेद्य अर्पण करके फल व ऋतु फल के संग श्रीफल अर्पित करें।

.जानिए ..shani dev ki puja kaise kare

 

Shani jayanti 2018

Shani Jayanti Puja Timings

Amavasya Tithi Begins = 19:46 on 14/May/2018
Amavasya Tithi Ends = 17:17 on 15/May/2018

    जानिए…. how to do shani puja at home

शनि मंत्र – shani mantra:

इस पंचोपचार पूजन के पश्चात इस मंत्र का जप कम से कम एक माला से करें। माला पूर्ण करके शनि देवता को समर्पण करें। पश्चात आरती करके उनको साष्टांग प्रणाम करें। शनि जयंती पर शनिदेव को अनुष्ठानों के माध्यम से प्रसन्न व शांत करना शुभ माना जाता है| शनि देव को फल देने वाला ग्रह माना गया है चाहे वो आपके लाभ के लिए हो या हानि के लिए, जिसकी कुंडली में शनि ग्रह प्रबल होता है वो अपने जीवन में बहुत सारी कामयाबी पाता है|
              ॐ प्रां प्रीं प्रौ स. शनये नमः

Shani jayanti 2018

Shani jyanti 2018 par kare yeh upay :-

what to do on Shani jayanti 2018??

सूर्योदय से पूर्व शरीर पर तेल मालिश कर स्नान करें।

जानिए ज्योतिष द्वारा केवल एक ही शनिवार करना है इस टोटके को, फिर देखे चमत्कार Pandit Booking

1. हनुमानजी के मंदिर के दर्शन अवश्य करें।

2. ब्रह्मचर्य का पालन करें।

3. तेल में बनी खाद्य सामग्री का गाय, कुत्ता व भिखारी को करें।

4. शनिजी का जन्म दोपहर या सायंकाल में है। विद्वानों में इसको लेकर मतभेद है। अतः दोपहर व सायंकाल में मौन रखें।

5. शनि महाराज व सूर्य-मंगल से शत्रुतापूर्ण संबंध होने के कारण इस दिन सूर्य व मंगल की पूजा कम करनी चाहिए।

6, शनि यन्त्र अवश्य धारण करे

7, shani shanti के लिए ghode ki naal का भी प्रयोग करे।
8, ghode ki naal ring (छल्ला) भी धारण कर सकते है

Shani jayanti 2018

shani jayanti and shani amavasya benifits :-

  • शनि ग्रह की पीड़ा शांत होती है|
  • आपको धन-संपति, शक्ति व समृद्धि की प्राप्ति होती है|
  • आपकी आंतरिक शक्ति में वृद्धि होती है तथा बाधाओं से छुटकारा मिलता है|
  • आप कुशल बनते हैं तथा व्यवस्थित जीवन जीने में आपको मदद मिलती है|
  • आप उत्कृष्ट प्रबंधक बनते हैं|

और पढ़े…..shani dosh nivaran