सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार हाथ से ही नहीं बल्कि पैरो के तलवे से भी जान सकते आप अपने बारे में, जाने कैसे ?

ज्योतिष-शास्त्र -Jyotish Shastra

(jyotish shastra) हमारे प्राचीन धार्मिक ग्रंथो एवं शास्त्रों में अनेक ऐसी विधियां वर्णित है जिनके द्वारा हम भविष्य में घटित होने वाली घटना, उसके संकेतों को समझने एवं भविष्य का स्टिक अनुमान लगा सकते है.

इन विधियों की मदद से कोई भी व्यक्ति अपने आने वाले कल की कोई भी बात जान लेता है, यदि उसके साथ भविष्य में कोई बुरी घटना घटित होने वाली होती है तो उसके बारे में वह पूर्व से जानकारी हासिल करके इस समस्या का उपाय खोज उसका समाधान भी निकाल सकता है.

उपरोक्त सभी सुविधाओं का एक निचोड़ है ज्योतिष शास्त्र, ज्योतिष शास्त्र (jyotish shastra)के अंतर्गत आने वाली सभी विद्याएं एवं विधियां के द्वारा हम भविष्य में आने वाली शुभ एवं अशुभ संकेतों के बारे में जान सकते है.

jyotish shastra

 

किसी व्यक्ति के भविष्य जानने के लिए (jyotish shastra) ज्योतिष शास्त्र (Hasth Rekha)  में अधिकांश प्रयोग की जाने वाली निम्न विधियां प्रयुक्त होती है जैसे किसी व्यक्ति के जन्म के आधार पर उसका भविष्य ज्ञात किया जा सकता है, हस्त रेखाओं के द्वारा, अंको की मदद से व टैरो कार्ड की मदद से भी भविष्य का पूर्वानुमान लगया जा सकता है.

शास्त्रों में उल्लेखित इन सभी विधाओं के द्वारा हम अपना भविष्य ज्ञात कर सकते है तथा इसके साथ ही यदि भविष्य में कोई बुरी घटना घटित होने वाली हो तो उसका समाधान भी पा सकते है. वैसे तो भविष्य के बारे में जानने के ये सभी तरिके अत्यन्त प्रभावशाली एवं रोचक है

परन्तु आज हम आपको रेखाओं से संबंधित रोचक जानकारी के बारे बताएंगे.

हाथ की रेखाओं द्वारा हम अपने भविष्य से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते है. अन्य विद्याओं के साथ मिलकर इसका महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है. हमारे जन्म के समय बनी जन्मकुंडलिका पत्र एवं हमारे हाथो की रेखाओं के बिच बहुत गहरा संबंध होता है.

आपके जन्म के विवरण के अनुसार किया गया कुंडली पत्रिका आपके आने वाले काल के बारे में बताता है, यह हमेशा समान ही रहता है, तथा आपके मृत्यु तक वही बताएगा जो आपके सम्पूर्ण जीवन में घटित हुआ और होगा.

लेकिन यदि आप कुंडली में कुछ ऐसे भावो एवं योगो के निवारण हेतु कुछ उपाय अपनाते है . उपाय कितना प्रभावशाली है ये आपके हस्त रेखाएं देखने से पता चलता है.

यदि उपाय सही विधि द्वारा किये जाए तो हमारी हस्त रेखाएं बदलने लगती है. इससे सिद्ध होता है की कितनी महत्वपूर्ण होती है हमारी हस्त रेखाएं, परन्तु केवल हाथ की ही नहीं.

इन हाथो की रेखाओं की तरह ही पैरो की रेखाएं भी आपके बारे में बहुत कुछ बताती है.

शास्त्रों की सभी विद्याओं में से सामुद्रिक शास्त्र भी एक महत्वपूर्ण विद्धिया है जो आपके बारे में बहुत कुछ बता सकता है. समुद्र शास्त्र के अनुसार आपके पाँव के तलवो में मौजूद रेखा भी आपके चरित्र के बारे में और आने वाले कल के बारे में बहुत कुछ संकेत देती है. ये संकेत वास्तविकता में कारगर होते है, तथा व्यक्ति पर पूर्ण रूप से प्रभावी होते है.

इन्हे पढ़ने और समझने से व्यक्ति के स्वभाव, उसके चरित्र, उसकी सोच तथा उसका आगामी जीवन कैसे बीतेगा इसके बारे में जाना जा सकता है. पाँव के तलवो से इन सभी जानकारियों को कैसे जाना जा सकता है, यह सच में रोचक है !

पाँव के तलवो का शेप, तलवो की रेखाएं तथा उनका रंग ये सभी बाते होती है जो व्यक्ति के भविष्य एवं उससे जुडी जानकारी बताती है. तो आइये जानते है किसके पाँव के तलवे क्या कहते है.

jyotish shastra

हमारे पाँव के तलवे पर बने कुछ चिन्ह ऐसे होते है जो आसानी से साधारण आँखो से पहचाने जा सकते है परन्तु कुछ को पहचानने के लिए अलग से विशेष तरकीब का प्रयोग किया जाता है. (jyotish shastra) हमारे पाँवों में कुछ इस प्रकार के चिन्ह होते है – शंख, छत्र, तलवार, सांप, कमल का फूल, झंडा, इत्यादि .

उपरोक्त बताए गए ये चिन्ह समुद्र शास्त्र के अनुसार यदि किसी व्यक्ति के पैर के तलवे में पाया जाते है तो उसे भाग्यशाली माना जाता है. वह सभी लोगो के बिच राजा की भाति अपना जीवन व्यतीत करता है तथा दुनिया उसके पीछे-पीछे प्रजा की भाति.

(jyotish shastra) अब जानते है की आपके पैरो के तलवो के रंग क्या कहते है आपके बारे में. जिन व्यक्ति के पैरो का रंग सावला एवं मटमैला होता है, वे हर परिस्थित में खुस रहने वाले इंसान होते है. इन्हे आप इनके स्वभाव की दृष्टि से एक श्रेष्ठ व्यक्ति कह सकते है. उनका समाजिक एवं व्यपारिक जीवन समान्य रहता है.

उन्हें कई स्थानों पर घूमने का मौका मिलता है और सबसे अच्छी बात ऐसे व्यक्तियों के पास धन की कमी नहीं होती व यदि किसी कारणवश ऐसा हो भी जाए तो वे उस समय भी सकरात्मक सोच रखते है.

सफेद रंग के तलवे वाले व्यक्ति मनमौजी होते है वे अपने मन के अनुसार ही कार्य करते है. इनमे नशे की आदत भी पाई जाती तथा ये धार्मिक विषय पर काम विचार करते है या इनकी रूचि धार्मिक क्षेत्र में कम ही होती है.

जिनके तलवे काले होते हैं वह संतानहीन हो सकते हैं. काले रंग के तलवे आमतौर पर कई बीमारियों का संकेत देते हैं, यदि आपके या आपके किसी करीबी के पांव के तलवे प्राकृतिक रूप से ही काले हों तो उन्हें जल्द ही सचेत कर दें. ऐसे लोग कई बीमारियों का शिकार रहते हैं तथा ये लोग जीवन भर पैसों की तंगी में जीते हैं.

jyotish shastra

ज्योतिष-शास्त्र (jyotish shastra)के-अनुसार  पिले रंग के तलवे वाले व्यक्तियों के बारे में यदि डाकटर से पूछा जाये तो वे यही बताएंगे की इसका मुख्य कारण अनियमित आहार है. खान-पान सही न होने की कारण कमजोरी से शरीर पिला पड़ने लगता है. लेकिन सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार इसका कारण कुछ ओर ही है.

यदि किसी के पांव के तलवे पीले हों, साथ ही अंगुलियां मोर के पंजों की तरह खुली-खुली व पांव में नीली नसें उभरी हुई हों तथा तलवा हमेशा ठंडा रहता हो तो ऐसे व्यक्ति जीवनभर पैसों की तंगी के कारण परेशान रहते हैं. यदि धन इनकी जिंदगी में आता भी है, तो वह अनचाहे रूप से खर्च हो जाता है.

अगर आपके पैरो के तालवे सीधे एवं स्पॉट हो, चोडे हो, या फिर टेढ़े मेढ़े आकर के हो तो यह भी आपके बारे में बहुत कुछ बताते है. जिन व्यक्ति के पेरो के तलवे स्पॉट होते है वे व्यक्ति खुले दिल के तथा बहुत है दयालु होते है. वे सदैव समाज सेवा के लिए तत्पर रहते है तथा समाजिक कार्यो में उनकी सक्रिय भागेदारी होती है. इस प्रकार के व्यक्ति समाज में हर जगह आदर के पात्र बनते है.

आइये अब जानते है पेरो के तलवो की रेखाएं क्या कहती है आपके बारे में. यदि किसी व्यक्ति के पैर के तलवे से एक रेखा निकलकर उसके अंगूठे के मध्य भाग में पहुंचती है तो इस प्रकार के व्यक्ति धनवान तो होते परन्तु इसके साथ ही उनमे लालच भी होता है.उनका लालचपन ही उन्हें बुरा इंसान बना देता है.

Related Post:

आप खुद जान सकते है अपना भविष्य, हस्त रेखा शास्त्र से जुड़े कुछ संकेत