बद्रीनाथ और केदारनाथ से जुडी एक भविष्यवाणी जिससे सुन आप हो जायेंगे हैरान

बद्रीनाथ की कथा अनुसार सतयुग में देवताओं, ऋषि-मुनियों एवं साधारण मनुष्यों को भी भगवान विष्णु के साक्षात दर्शन प्राप्त होते थे. इसके बाद आया त्रेतायुग- इस युग में भगवान सिर्फ देवताओं और ऋषियों को ही दर्शन देते थे, लेकिन द्वापर में भगवान विलीन ही हो गए. इनके स्थान पर एक विग्रह प्रकट हुआ. ऋषि-मुनियों और मनुष्यों को साधारण विग्रह से संतुष्ट होना पड़ा.

शास्त्रों अनुसार सतयुग से लेकर द्वापर तक पाप का स्तर बढ़ता गया और भगवान के दर्शन दुर्लभ हो गए. द्वापर के बाद आया कलियुग, जो वर्तमान का युग है.

पुराणों में बद्री-केदारनाथ के रूठने का जिक्र मिलता है. पुराणों अनुसार कलियुग के पांच हजार वर्ष बीत जाने के बाद पृथ्वी पर पाप का साम्राज्य होगा. कलियुग अपने चरम पर होगा तब लोगों की आस्था लोभ, लालच और काम पर आधारित होगी. सच्चे भक्तों की कमी हो जाएगी.

केदार घाटी में दो पहाड़ हैं- नर और नारायण पर्वत. विष्णु के 24 अवतारों में से एक नर और नारायण ऋषि की यह तपोभूमि है. उनके तप से प्रसन्न होकर केदारनाथ में शिव प्रकट हुए थे. माना जाता है कि जिस दिन नर और नारायण पर्वत आपस में मिल जाएंगे, बद्रीनाथ का मार्ग पूरी तरह बंद हो जाएगा. भक्त बद्रीनाथ के दर्शन नहीं कर पाएंगे. पुराणों अनुसार आने वाले कुछ वर्षों में वर्तमान बद्रीनाथ धाम और केदारेश्वर धाम लुप्त हो जाएंगे और वर्षों बाद भविष्य में भविष्यबद्री नामक नए तीर्थ का उद्गम होगा.

उत्तराखंड में आई प्राकृतिक आपदा इस बात की ओर इशारा करती है कि मनुष्य ने विकास के नाम पर तीर्थों को विनाश की ओर धकेला है और तीर्थों को पर्यटन की जगह समझकर मौज-मस्ती करने का स्थान समझा है तो अब इसका भुगतान भी करना होगा. पुराणों अनुसार गंगा स्वर्ग की नदी है और इस नदी को किसी भी प्रकार से प्रदूषित करने और इसके स्वाभाविक रूप से छेड़खानी करने का परिणाम होगा संपूर्ण जंबूखंड का विनाश और गंगा का पुन: स्वर्ग में चले जाना.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *