in

शनिदेव पूजा में सरसो का तेल पुस्ते भी होगी शनिदोष से मुक्त

Why Do We Offer Oil To Shanidev :

आम धारणा है की शनिवार को शनिदेव पर तेल चढ़ाने से भक्तो की पीड़ा दूर होती है और शनिदेव प्रसन्न होते है , लेकिन आपको यह जानकर आश्चार्य होगा की शनिदेव को तेल चढ़ाने से उनकी पीड़ा दूर होती है|

इसके पीछे एक पौराणिक कथा छिपी हुई है | हिन्दू पौराणिक कथाओ के अनुसार – एक बार हनुमान जी तपस्या कर रहे थे और तभी वहां शनिदेव पहुँच गए और शनिदेव ने हनुमान जी को युद्ध के लिए ललकारा| परंतु हनुमान जी ने युद्ध के लिए मना कर दिया और कहा की आप मेरी आरधना में विघ्न ना डाले और यहाँ से चले जाये|

लेकिन बार बार कहने पर भी शनिदेव वहां से नहीं गए और हनुमान जी से कहा की – ” मैंने सुना है की तुम बहुत बलवान और शक्तिशाली हो , लेकिन मुझे देखते तुम्हारी ताकत कहाँ चली गयी या तो मुझसे युद्ध करो या फिर मेरे दास बन जाओ”|

इस पर हनुमान जी को क्रोध आया और उन्होंने शनिदेव को पुंछ में फंसा लिया और घुमा घुमा कर एक पर्वत से दूसरे पर्वत पर दे मारा| इससे शनिदेव का सारा शारीर छलनी हो गया| शरीर पर घावों से त्रस्त शनिदेव ने हनुमान जी से विनती कर छोड़ने को कहा और ये वचन दिया की आज से मैँ आपकी हर बात मानूगा|

शनिदेव की प्राथना सुन हनुमान जी ने उन्हें मुक्त कर दिया और ये वचन लिया की आज से तुम मेरे किसी भक्त को परेशान नहीं करोगे और उनकी रक्षा करोगे| तब से शनिदेव पर तेल चढ़ाया जाता है ताकि उनकी पीड़ा दूर हो और तेल चढ़ाने वाले पर शनिदेव की कृपा हो |

जानिए…. how to do shani puja at home

 

अब आप बिना Internet अपने फ़ोन पर पंचांग, राशिफल, आरती, चालीसा, व्रत कथा, पौराणिक कथाएं और प्रमुख एवं अजीबो गरीब मंदिरो की जानकारी प्राप्त कर सकते है !

और पढ़े…..shani dosh nivaran

Click here to download

आइये जानते है कौन है शनिदेव और कैसे हुआ उनका जन्म !

क्यों किया राम ने हनुमान पर ब्रह्मास्त्र का प्रयोग !

ऐसा क्या हुआ की भगवन राम ने दिया लक्ष्मण को मृत्युदंड l

12 jyotirling, 12 jyotirlinga, 12 jyotirlingas, hindu mythology, hinduism, jyotirling, jyotirlinga, lord shiva, shiva, shiva jyotirlinga, shiva temple, somanath temple, somnath, somnath mandir, somnath temple, somnath trust, stories from hindu mythology, temple

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग – भगवान शिव का पहला ज्योतिर्लिंग जहाँ श्रीकृष्ण ने किया था देह त्याग !