माँ शीतला मंदिर – जिसके अंदर है एक चमत्कारिक घड़ा जो करोड़ो लीटर पानी से भी नही भरता !

Sheetla Mata Temple:

राजस्थान के पाली जिले में माँ शीतला(sheetla mata) का एक बहुत ही चमत्कारी मंदिर हे, इस मंदिर में स्थित एक आधा फिट गहरा और उतना ही चौड़ा घड़ा. श्र्द्धाल्वो के दर्शनार्थ के लिए ये साल में 2 बार खोला जाता हे और एक मेले का आयोजन किया जाता हे, इसमें श्र्द्धालू करोड़ो लीटर पानी घड़े में चढ़ाते हे पर यह घड़ा कभी भरता ही नही है.

यह चमत्कार बरसो से चला आ रहा हे और हैरानी की बात यह है कि जब माता(sheetla mata) के चरणों में भोग लगाया जाता है तो मात्र दो बूंद से ही यह मंदिर का घड़ा पूरा भर जाता है. हर साल दो बार शीतला माता का पूजन होता है – शीतला(sheetla mata) सप्तमी और ज्येष्ठ माह यानी जेठ की पूर्णिमा को मंदिर में स्थापित इस घड़े से पत्थर हटाकर इसे सबके लिए खोल दिया जाता है.

क्या कहानी हे इसके पीछे …

Sheetla Mata Temple Story:

गाँव में मान्यता है की यहाँ सेकड़ो साल पहले गाँव में एक बाबरा नाम का दानव रहता था और गाँव में हो रही शादियों में जाकर दुल्हन और दूल्हे को मार देता था. उस से तंग आकर गाव वाले एक सिद्ध ऋषि के पास गये , ऋषि ने उन्हें माँ शीतला की पूजा करने को कहा| गाव के लोगो ने माँ शीतला की पूजा कर उन्हें मनाया और अपनी समस्या बताई.

माँ(sheetla mata) ने उनसे गाँव में एक शादी करने को कहा, गाँव वालो में एक शादी रचाई गई और उसमे माँ एक छोटी सी कन्या के रूप में आई. दानव अपनी आदत के अनुसार आया और उसने जैसे ही विवाहित जोड़े को मारने का प्रयास किया माँ रूपी छोटी कन्या ने उस दानव को रोका और उसे अपने घुटनो के बीच दबोच लिया.

अंत में उसने माँ से अपने प्राण की भीख मांगी, माँ(sheetla mata) ने उड़े छोड़ दिया तब दानव ने कहा की यहाँ रेगिस्तान में पानी की बहुत कमी है. माँ कुछ ऐसा उपाय करो की मुझे पानी की समस्या से न जूझना पड़े , माँ ने कहा की तुझे मेंरे मंदिर(sheetla mata temple) में लोगो द्वारा जल चढ़या जायेगा और अंत में जब मेंरे चरणो से पानी की दो बून्द तुम्हे दी जाएगी तो तुम्हारी प्यास भुज जाएगी.

तांत्रिको की सिद्धि प्राप्ति का प्रसिद्ध स्थान, कामख्या मंदिर !

धर्म और आध्यात्म्क का केंद्र हैं गया मंदिर