सालासर बालाजी, राजस्थान – यहाँ हनुमान जी है दाढ़ी मूछों से सुशोभित !

salasar balaji story in hindi, salasar balaji mandir, salasar balaji story, salasar balaji story hindi me

salasar balaji story in hindi, salasar balaji mandir, salasar balaji story, salasar balaji story hindi me, salasar balaji, salasar balaji temple, salasar balaji temple is dedicated to lord hanuman, hanuman temple in salasar, balaji rajasthan, salasar dham

Salasar Balaji story in Hindi :

पुरे भारत में हनुमान जी के अनेको चमत्कारिक और अद्भत मंदिर(salasar balaji) है इन्ही मंदिर में सम्लित है हनुमान जी का यह अनोखा मंदिर जहाँ हनुमान जी दाढ़ी मुझो से सुशोभित है. यह मंदिर सालासर राजस्थान राज्य के चुरू जिले के सुजानगढ़ में स्थित है.

इस मंदिर (salasar balaji) में बालाजी की प्रतिमा सोने के सिहासन पर स्थापित की गई है. इस प्रतिमा के ऊपर की तरफ राम दरबार है तथा निचे की तरफ राम के चरणो में हनुमान जी दाढ़ी मुझो से सुशोभित ,बालाजी के रूप में विराजमान है. बालाजी की यह प्रतिमा सालिग्राम पत्थर से बनी है तथा बालाजी की इस प्रतिमा को गेरुए रंग तथा सोने के आभूषणो से सजाया गया है बालाजी के सर पर रत्नो से जड़ित भव्य मुकुट को चढ़ाया गया है.

बालाजी की इस प्रतिमा का रूप बहुत ही आकर्षक और प्रभावशली है. मंदिर (salasar balaji) के अंदर एक प्राचीन कुण्ड है जहाँ श्रद्धालु स्नान करते है. कहा जाता है इस कुण्ड का जल आरोग्यवर्धक है जो भी श्रद्धालु इसमें स्नान करता है वह अपने सभी रोगो से मुक्ति पता है. सालसार के इस मंदिर के स्थापित होने के समय से ही यहाँ एक अखंड दीप प्र्वज्लित है. बालाजी के इस मंदिर (salasar balaji) से लगभग एक किलोमीटर की दुरी पर माँ अंजना का बहुत ही भव्य मंदिर भी स्थित है.

सालसार मंदिर(salasar balaji) के संस्थापक मोहनदास जी की बचपन से ही हनुमान जी के प्रति अत्यंत श्रद्धा थी. उन्हें हनुमान जी की यह प्रतिमा हल जोतते समय जमीन के अन्दर से मिली थी. आज भी मोहनदास के वंशज इस मंदिर में परम्परागत रूप से बालाजी को दैनिक भोग लगाते है व सुबह शाम उनकी पूजा करते है. देश-विदेश से यहाँ भक्त आते है .मंगलवार और शनिवार को यहाँ श्रधलुओ की अधिक भीड़ होती है . यहाँ हर वर्ष भाद्रपद, आश्विन, चैत्र एवं वैशाख की पूर्णिमा के दिन बहुत ही विशाल मेले का आयोजन किया जाता है !

READ  जानिए क्या महत्व है सोमवती अमावस्या का !

अब आप बिना Internet अपने फ़ोन पर पंचांग, राशिफल, आरती, चालीसा, व्रत कथा, वेद और पुराणो की कथाएं, हिन्दू धर्म की रीति-रिवाज और प्रमुख एवं अजीबो गरीब मंदिरो की जानकारी प्राप्त कर सकते है ! Click here to download

Related Post