क्यों विवाह ना होने के कारण नारद मुनि ने भगवन विष्णु को दिया श्राप ?

narad muni vivah story

अब भगवान विष्णु ने अपनी माया रचनी शुरू कर दी , उन्होंने एक नगरी का निर्माण किया जिसका राजा था शीलनिधि और उसकी एक सुन्दर कन्या – विश्वमोहिनी | एक दिन जब नारद मुनि वहां से गुजर रहे थे तो उनकी नज़र उस नगरी पर पड़ी और वो राजा से मिलने चले गए | वहाँ राजा ने उन्हें अपने बेटी से मिलवाया | विश्वमोहिनी को देख कर नारद मुनि मोहित हो गए और कहा की जो भी इस लड़की से विवाह करेगा वह भगवन की तरह होगा और उसे युद्धभूमि में कोई हरा नहीं पायेगा | ये सुनकर राजा शीलनिधि ने स्वयंवर की घोषणा कर दी |

3 of 6

Related Post

READ  जाने पापमोचनी एकादशी का महत्व और इस से जुडी कथा !