कैसे किया भगवान विष्णु ने मछली रूप में नए सृष्टि के निर्माण में सहयोग !

lord vishnu matsya avatar story

matsya avatar story in hindi, matsya avatar in hindi, lord vishnu matsya avatar story

lord vishnu matsya avatar story :

हिन्दू पुराणो के अनुसार चार युग बताये गए है सतयुग ,द्वापरयुग, त्रेतायुग और कलयुग और हर युग को ब्रह्मा का एक दिन माना गया है, हर एक युग के बाद ब्रह्मा जी सो जाते है | जिस दीन ब्रह्मा जी सो जाते है उस दिन संसार का सर्जन रुक जाता है और जब भी संसार विपदा में पड़ता है तब भगवान विष्णु संसार को इस विपदा से उबारते है |

इसी के सम्बन्ध में अग्नि पुराण से एक कथा मिलती है की जब सतयुग खत्म होने की कगार पर था और एक युग ख़त्म होने के पश्चात जब ब्रह्मा जी सो रहे थे तब ब्रह्मा जी के नाक से एक हयग्रीव नामक दानव उत्पन हुआ जिसने ब्रह्मा के सोते समय उनके वेदो को चुरा लिया और समुद्र में जा के छुप गया | जब भगवान विष्णु को इस बात का पता चला तो वे चिंतन में खो गए क्योकि रक्षक होने के नाते वेदो का ज्ञान अगले युग तक पहुँचाना विष्णु का दायित्व था | तभी भगवान विष्णु ने राजा मनु को तपस्या में लीन देखा तथा उन्हें अहसास हुआ की यह व्यक्ति वेदो को बचा सकता है |

Related Post

READ  मृत्यु के पश्चात क्या होता है आत्मा का - जानिए क्या लिखा है गरुड़ पुराण में !