जानिए माँ भगवती का नाम कैसे पड़ा दुर्गा !

maa bhagwati maa durga

maa bhagwati maa durga

maa bhagwati maa durga  :

प्रचीन समय में दुर्गम नामक एक देत्य ने स्वर्ग में हाहाकार मचा रखी थी | उसने ब्रह्मा को प्रसन्न कर सारी शक्तियाँ अपने वश में कर ली जिससे वह इतना ताकतवर हो गया की उसने देवताओ को हराकर स्वर्ग में अपना अधिकार कर लिया | दैत्य दुर्गम से हारने के पश्चात सभी देवता त्रिदेव के पास पहुंचे तथा दैत्य दुर्गम से छुटकारा पाने के लिए उनसे विनती करी | त्रिदेवो ने देवताओ को माँ शक्ति का आह्वान करने के लिए कहा | सभी देवताओ ने मिलकर शुंभ-निशुंभ, मधु-कैटभ तथा चण्ड-मुण्ड का वध करने वाली माँ देवी शक्ति का आह्वान किया.माँ देवी देवताओ के आह्वान को सुनकर उनके सामने प्रकट हुई और उन्हें बुलाने का कारण पूछा |

तब सभी देवतावों ने माँ भगवती को बताया की दुस्ट दुर्गम ब्रह्मा जी द्वारा दिए गयी शक्तियों से हम पर अत्याचार कर रहा है उसने इन शक्तियों के बल पर स्वर्ग में अपना अधिकार कर लिया हे. तथा उन्होने माता से विनती करी की वे उन्हें दुस्ट दुर्गम के अत्याचार से मुक्त करे .देवतावों की विनती सुन माता ने उन्हें आश्वासन दिया की वह दुस्ट दुर्गम का संहार करेगी |

जब यह बात दैत्यराज दुर्गम को पता चली तो उसने देवतो पर फिर से आक्रमण कर दिया | तब माँ भगवती ने अपनी शक्तियों द्वारा दुस्ट दुर्गम की सेना का विनाश किया | अपनी सेना का विनाश देख दुर्गम स्वयं माँ भगवती से लड़ने आया , तब माँ शक्ति ने अपनी सहायक शक्तियाँ माँ काली, तारा, छिन्नमस्ता, श्रीविद्या, भुवनेश्वरी, भैरवी, बगला आदि का आह्वान किया और उन्हें युद्ध के लिए कहा | इस भयंकर युद्ध में सभी शक्तियों ने माँ भगवती का साथ दिया और माँ भगवती ने दैत्य दुर्गम का संहार किया | इस दुर्गम नामक देत्य को मरने के कारण माँ भगवती, देवी दुर्गा के नाम से संसार में विख्यात हुई |