करणी माता मंदिर – 20,000 चूहों का घर है यह मंदिर !

Karni Mata Temple:

जहाँ बहुत से घर में चूहों को देखते ही लोग उनसे दर जाते है और उन्हें भगाते हे वही भारत में एक ऐसा मंदिर है जहाँ 20,000 चूहे निवास करते है. राजस्थान के बीकानेर से लगभग 30 किलोमीटर दूर एक क़स्बा है देशनोक ,यहाँ माता करणी का मंदिर(karni mata temple) पुरे दुनिया में प्रसिद्ध है, माता करनी माँ जगदम्बा का अवतार है.

यह मंदिर चूहा मंदिर(Temple of rats) के नाम से भी जाना जाता है, इस मंदिर(karni mata temple) पर आने वाले श्रधालुओ को यहाँ बड़े संभलकर कर चलना पड़ता है क्योकि मंदिर के अन्दर अनेक चूहे है जिनकी रक्षा करना सभी का धर्म है. ये चूहे किसी को नुकसान नही पहुचाते है. इन चूहों की सुरक्षा के लिए मंदिर(karni mata temple) में बारीक़ जालिया लगाई है ताकि उनकी रक्षा गिद्ध और चिल से की जा सके.

मंदिर(karni mata temple) के इन चूहों को काबा कहा जाता है और माँ के प्रसाद को पहले ये चूहे ही खाते है इसके बाद इस प्रसाद को श्रदालुओ को बाटा जाता है. इन चूहों को माँ का सेवक भी मन जाता है तथा यहाँ हर जगह चूहे ही चूहे दिखाई देते है. कहा जाता है, की अगर इन चूहों के बीच कोई व्यक्ति सफेद चूहा देखे तो वो भाग्यशाली होता है.

Karni Mata Temple Story – क्या है इसके पीछे की कहानी :

अब से लगभग साढ़े छह सौ वर्ष पूर्व जिस स्थान पर यह भव्य मंदिर है, वहां एक गुफा में रह कर मां अपने इष्ट देव की पूजा अर्चना किया करती थीं | यह गुफा आज भी मंदिर(karni mata temple) परिसर में स्थित है.कहते है करनी माता 151 वर्ष जिन्दा रहकर 23 मार्च 1538 को ज्योतिर्लिन हुई थी | उनके ज्योतिर्लिंन होने के पश्चात भक्तों ने उनकी मूर्ति की स्थापना कर के उनकी पूजा शुरू कर दी जो की तब से अब तक निरंतर जारी है | इस मंदिर का निर्माण बिमानेर के राजा गंगा सिंह ने 20 शताब्दी में करवाया | यह मंदिर काफी बड़ा और सुन्दर है और यहाँ पर माता के चूहों के आलावा,चांदी के बड़े-बड़े किवाड़ ,माता की सोने की छत्र और संगरमर पर सुन्दर नक्काशियों को दर्शाया गया है |

जानिये भारत के सबसे दुर्गम धार्मिक स्थलों के बारे में !