कल शनि अमावश्या भूल से भी न करे ये काम जिंदगी भर भोगोगे शनि दंड

कल शनि अमावश्या भूल से भी न करे ये काम जिंदगी भर भोगोगे शनि दंड

आकाशमण्डल में उपस्थित 9 सौर ग्रह सदैव हमारी जिंदगी को प्रभावित करते है. जैसे ही हम जन्म लेकर इस पृथ्वी में आते है उसी क्षण के आधार पर आकाशमण्डल में उपस्थित नक्षत्र मिलकर हमारे जन्म कुंडली का निर्धारण कर देते है तथा इसी जन्मकुंडली के आधार पर हमारा भविष्य निर्भर होता है.

ज्योतिष विज्ञान के अनुसार जब सौरमंडल के ग्रह अपने स्थान में परिवर्तन करते है तो उससे हमारी जन्म कुंडली भी प्रभावित होती है. प्रत्येक ग्रह का अपना-अपना स्वभाव होता है, अपनी पसंद-नापसंद होती है तथा अपनी ही अलग खासियत होती है जो हमारे जीवन को प्रभावित करती है.

Related Post

READ  गुजरात में स्थित कष्टभंजन मंदिर, यहा स्त्री रूप में होती है शनि देव की पूजा !