ग्रहण काल में भोजन करना वर्जित क्यों ?

grahn kaal
Panditbooking वेबसाइट पर आने के लिए हम आपका आभार प्रकट करते है. हमारा उद्देस्य जन जन तक तकनीकी के माध्यम से हिन्दू धर्म का प्रचार व् प्रसार करना है तथा नयी पीढ़ी को अपनी संस्कृति और धार्मिक ग्रंथो के माध्यम से अवगत करना है . Panditbooking से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक से हमारी मोबाइल ऐप डाउनलोड करे जो दैनिक जीवन के लिए बहुत उपयोगी है. इसमें आप बिना इंटरनेट के आरती, चालीसा, मंत्र, पंचांग और वेद- पुराण की कथाएं पढ़ सकते है.

इस लिंक से Android App डाउनलोड करे - Download Now

हमारे ऋषि मुनियों ने सूर्य और चन्द्र ग्रहण लगने के समय भोजन करने के लिए मन किया हैं, क्योंकि उनकी मान्यता थी की ग्रहण के दौरान खाद्य वस्तुओं जल आदि में सूक्ष्म जीवाणु एकत्रित होकर उसे दूषित कर देते हैं .

इस लिए इनमे कुस ढाल दिया जाता हैं ताकि कीटाणु कुश में एकत्रित हो जाएं और उन्हें ग्रहण के बाद स्नान करके पवित्र होने के पश्चात ही भोजन करना चाहिए , ग्र्हण के समय भोजन करने से सूक्ष्म कीटाणुओं के पेट में जाने से रोग होने की आशंका रहती है इसी वजह से यह विधान बनाया गया है .

ये भी पढ़े... अगर आप धन की कमी से परेशान है या फिर आर्थिक संकट से झूझ रहे है या धन आपके हाथ में नहीं रुकता तो एक बार श्री महालक्ष्मी यन्त्र जरूर आजमाएं !

अपने शोधों से वैज्ञानिक तरिन्स्टर ने यह पाया की ग्रहण के समय मनुष्य की पाचन शक्ति कमजोर हो जाती हैं , जिसके कारण इस इस समय किया गया भोजन अपच अजीर्ण आदि शिकायतें पैदा कर सकता हैं .

भारतीय धर्म- विज्ञानवेत्ताओं का मानना है की सूर्य और चन्द्रगर्हण लगने के 10 घंटे पूर्व से ही उसका कुप्रभाव सुरु हो जाता है , अंतरिच्छीय प्रदूषण के इस समय को सूतक काल कहा गया है.

चुकी ग्र्हण से हमारी जीवन शक्ति का ह्रास होता है और तुलसीदल (पत्र ) में विद्युतशक्ति व् प्राण शक्ति सबसे अधिक होती है इसलिए सौरमंडलीय ग्रहणकाल में ग्रहण- प्रदूषण को समाप्त करने के लिए भोजन तथा पेयसामग्री में तुलसी के कुछ पत्ते डाल दिए जाते है.

जिसके प्रभाव से न केवल भोज्यपदार्थ बल्कि अन्न आटाआदि भी प्रदूषण से मुक्त बने रहते है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *