जाने ज्योतिष दृष्टिकोण के अनुसार क्या कहता है आप के दांतों के बीच का रिक्त स्थान !

हमारे हिन्दू धर्म ग्रंथो में अनेक ऐसी भी विद्याएँ है जो न केवल हमारे भविष्य को बताती है बल्कि साथ ही हम उनसे अपने या किसी अन्य व्यक्ति के स्वभाव का एकदम सही अंदाजा लगा सकते है.

इन्ही विद्याओं में से एक प्रसिद्ध विद्या है सामुद्रिक शास्त्र. इस विद्या के द्वारा हम किसी भी व्यक्ति के शरीर के प्रत्येक भाग के आल्वा उसकी भाव-भंगिमाओं द्वारा भी उसके स्वभाव एवं चरित्र के बारे में जान सकते है.

आज हम आपको यह बताने जा रहे की सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार आखिर आपके दांतों के बीच आये रिक्त स्थान किस ओर इशारा करते है और आखिर क्या कहते है यह आपके बारे में.

वैसे तो दांतों के बीच का फासला आपके सुंदरता के लिए सही नहीं है क्योकि यह आपके मुस्कुराहट को फीका बना देता है. परन्तु क्या सामुद्रिक ज्योतिष के अनुसार भी आपके दांतों के बीच का रिक्त स्थान उतना ही बुरा है.

सामुद्रिक शास्त्र में कहा गया है की यदि किसी व्यक्ति के दांतों के आकार के समान होने के साथ यदि उस व्यक्ति के दांतों की चमक भी वैसे ही हो तो वह बहुत ही भाग्यशाली होते है तथा सुखमय जीवन व्यतीत करते है. ऐसे व्यक्ति बहुत ही रचतनात्मक होते है तथा यह जानते है की पैसो का कैसे सदुपयोग किया जाए.

जिन व्यक्ति के समाने के दांतों के बीच यदि रिक्त स्थान हो तो यह बुद्धिमता की निशानी माना गया है अर्थात ऐसे व्यक्ति बहुत ही तीव्र बुद्धि के होते है. सामने दांतों के बीच रिक्त स्थान वाले व्यक्ति में अद्भुत ऊर्जा समाहित होती है.

वे बहुत ही जिंदादिल होते है तथा तब तक हार नहीं मानते जब तक वे अपना मुकाम हासिल नहीं कर ले. यही कारण है की वह परेशानी के समय भी मुस्कराते रहते है.

परन्तु जिन व्यक्ति के दांतों के समाने के बीच रिक्त स्थान होता है, इन सब खूबियों के आल्वा उनमे एक खामी भी है. सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार ऐसे लोग बहुत बातूनी होते है तथा उनकी ये आदत किसी व्यक्ति को बोरियत भी महसूस करा सकती है.

ऐसे व्यक्ति किसी भी विषय में बहुत देर तक व बिना थके लगातार बोल सकते है.

दांतों के बीच दिखने वाला फासला ये बताता है कि सामने वाला व्यक्ति बहुत खुले विचारों वाला इंसान है और साथ ही वह बहुत खुश मिजाज हैं. ये लोग अपने दिल की बात कहने से जरा भी नहीं हिचकिचाते.

जिन लोगो के दांतों के बीच फासला होता है ऐसे लोग आर्थिक फैसले लेने में भी काफी अच्छे होते है. वे भलीभांति जानते है किस जगह उन्हें अपने धन का प्रयोग करना चाहिए. उनके इसी स्वभाव के कारण वे कभी धन संबंधी परेशानियों से नहीं जूझते.

यदि कोई नौकरीपेशा आदि करने वाले व्यक्ति हो तो उनके बीच के दांतों का फासला इस और इशारा करता है की वे अपने करियर की तरफ काफी उच्ची सफलता प्राप्त करेंगे.

अतः यदि किसी व्यक्ति के दांतों के बीच रिक्त स्थान होता है तो उसे इस बात से दुखी नहीं होना चाहिए की यह उसकी मुस्कराहट को फीका कर रहा है बल्कि उसे खुश होना चाहिए की दांतों के बीच रिक्त स्थान होना सौभाग्य लाता है.

यह तो था दांतों के बीच के फासले का किसी व्यक्ति पर क्या प्रभाव पड़ता है और उसका स्वभाव कैसा होता है परन्तु अब हम आपको बताने जा रहे है की किसी व्यक्ति के दांतों की बनावट एवं उसके स्वरूप के अनुसार हम किसी व्यक्ति के भविष्य को कैसे ज्ञात कर सकते है.

जिन स्त्रियों के दाँत आपस में सटे होने के साथ थोड़ी सी लालिमा लिए होते तो इस तरह की स्त्रियों को राजसी सुख प्राप्त होता है . जिन स्त्रियों के ऊपर और नीचे 16 -16 दाँत होते है, उन्हें उनके पति से अत्यधिक प्रेम मिलता है.

जिन लोगो के दाँत धीरे-धीरे उखड़ते है उन्हें दीर्घ आयु की प्राप्ति होती है. जिन स्त्रियों के दांतों के ऊपर दाँत हो उन्हें शासन प्राप्त होता है, वे स्वभाव में बहुत ही चालाक होती है.

जिन लोगो के मुंह में 32 दाँत होते है ऐसा कहा जाता है की उनके मुख से निकली हर बात सत्य होती है.

जिन पुरषो के दाँत बहुत लम्बे होते है उन्हें अपने जीवन में कभी भी धन संबंधी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता.