in ,

अपने भक्त की रक्षा के लिए जब महादेव शिव को करना पडा भगवान श्री कृष्ण से युद्ध, जाने क्या हुआ इस भीषण युद्ध का परिणाम !

shiva, lord shiva and krishna fight, lord krishna and lord shiva battle, lord krishna worshipped lord shiva, war between krishna and shiva, krishna and shiva story, bhagwan shiv ki katha

mahabharat, mahabharata, mahabharat story, mahabharata story, untold mahabharat story,

Shiva and lord krishna :-

महाप्रतापी एवं दैत्यराज बलि के 100 पुत्र थे जिसमे उसके सबसे बड़े पुत्र का नाम वाणासुर था, ( shiva ) वाणासुर बचपन से ही भगवान शिव ( shiva ) का परम भक्त था जब वाणासुर बड़ा हुआ तो वह हिमालय पर्वत की उच्ची चोटियों पर भगवान शिव की तपस्या करने लगा.

उसके कठिन तपस्या को देख भगवान शिव ( shiva ) उससे प्रसन्न हुए तथा उसे सहस्त्रबाहु के साथ साथ अपार बलशाली होने का वरदान दिया. भगवान शिव के इस वरदान द्वारा वाणासुर अत्यन्त बलशाली हो गया कोई भी युद्ध में उसके आगे क्षण भर मात्र भी टिक नहीं सकता था.

वाणासुर को अपने बल पर इतना अभिमान हो गया की उसने कैलाश पर्वत में जाकर भगवान शिव ( shiva ) को युद्ध के लिए चुनौती दे दी. वाणासुर की इस मूर्खता को देख भगवान शिव ( shiva ) क्रोध में आग बबूला हो गए परन्तु फिर अपने भक्त की इस मूर्खता को उन्होंने उसकी नादानी समझी और कहा अरे मुर्ख ! तेरे घमंड को चूर करने वाला उतपन्न हो चुका है, जब तेरे महल की ध्वजा गिरे तो समझ लेना की तेरा शत्रु आ चुका है.

वाणासुर की एक पुत्री थी जिसका नाम उषा था. एक दिन उषा को एक सपना आया जिसमे उसने भगवान श्री कृष्ण के पौत्र अनिरुद्ध को देखा, वह इतना आकर्षक था की उषा उस पर मोहित हो गई. उषा जब सुबह उठी तो उसने अपने स्वप्न वाली बात अपनी सखी चित्रलेखा को बताई.

चित्रलेखा ने अपने योगमाया से अनिरुद्ध का चित्र बनाकर उषा को दिखाया. उषा तुरंत उस चित्र को पहचान गई और कहा यह वही राजकुमार है जिसे मेने स्वप्न में देखा था. इसके बाद चित्रलेखा ने द्वारिका जाकर सोते हुए अनिरुद्ध को पलंग सहित उषा के महल में पहुंचा दिया. जब अनिरुद्ध नींद से जागा तो उसने अपने आपको एक नए स्थान पर पाया उसके पलंग के सामने एक सुन्दर कन्या बैठी थी.

तब उषा ने अनिरुद्ध को अपने स्वप्न वाली बात बताई तथा उसके साथ विवाह करने की अपनी इच्छा जाहिर की. अनिरुद्ध भी उषा पर मोहित हो गए तथा उसके साथ महल में रहने लगे.

जब उषा के महल से किसी पुरष की आवाज महल के पहरेदारों को सुनाई दी तो उन्हें संदेह हुआ तथा उन्होंने यह बात वाणासुर को बताई. वाणासुर भी महल के ध्वजा गिरने से यह समझ गया था की महल में ऐसा कोई व्यक्ति आ चुका है जो उसके मृत्यु का कारण बनेगा. वाणासुर अपनी सेना के साथ उषा के महल में गया तथा उसने अनिरुद्ध को बलपूर्वक बंधी बना लिया.

उधर द्वारिका में अनिरुद्ध को उसके महल से गायब हुए देख सब चिंतित हो अनिरुद्ध की खोज-खबर करने लगे. तब देवऋषि नारद द्वारिका पहुंचे तथा उन्होंने श्रीकृष्ण को बताया की उनके पौत्र अनिरुद्ध को वाणासुर ने बंधी बनाया है.

भगवान श्री कृष्ण बलराम सहित तुरंत वाणासुर के साथ युद्ध के लिए निकले. बलराम ने अपने बल से वाणासुर के सभी सेनिको का वध कर दिया उधर भगवान श्री कृष्ण और वाणासुर के मध्य भी भीषण युद्ध होने लगा. परन्तु जब वाणासुर ने भगवान श्री का युद्ध में पलड़ा भरी होते देखा तो उसने भगवान शिव को याद किया.

वाणासुर की पुकार को सुनकर भगवान शंकर ने अपने रुद्रगणो की सेना को युद्ध में भेजा. परन्तु उन्हें बलराम और श्री कृष्ण के साथ युद्ध में पराजय का समाना करना पडा. अंत में स्वयं महादेव शिव अपने भक्त की रक्षा के लिए युद्ध में उतरे. भगवान शिव और कृष्ण के मध्य इतना भयंकर युद्ध हुआ की सम्पूर्ण सृष्टि इसके प्रभाव से काँपने लगी.

जब श्री कृष्ण को लगा की भगवान शंकर ( shiva ) के रहते वे अनिरुद्ध को नहीं बचा पायेंगे तब उन्होंने अपने दोनों हाथ जोड़ भगवान शिव की स्तुति करी और कहा हे देवेशर ! आपने ने खुद कहा था की में वाणासुर के मृत्यु का कारण बनूंगा परन्तु आपके रहते यह कार्य सम्भव नहीं हो सकता. आपकी कहि हुई बात मिथ्या नहीं हो सकती अतः आप ही कोई मार्ग निकले. तब महादेव शिव ने श्री कृष्ण को आशीर्वाद देते हुए कुछ इशारा किया.

भगवान शिव का इशारा पाते ही श्री कृष्ण ने उन पर निंद्रास्त्र चला दिया जिस से शिव ( shiva ) गहरी निद्रा में सो गए और युद्ध रुक गया. अंत में श्री कृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र निकाल कर वाणासुर की भुजाएं काटना शुरू कर दी. भगवान श्री कृष्ण ने वाणासुर की चार भुजाएं छोड़ कर सभी भुजाएं काट दी .

जैसे ही भगवान श्री कृष्ण वाणासुर के सर को उसके धड़ से अलग करने के लिए अपने सुदर्शन चक्र को इशारा कर रहे थे उसी समय भगवान शिव पुनः निंद्रा से जाग गए. अपने भक्त का जीवन समाप्त होते देख शिव ( shiva ) एक बार फिर रणक्षेत्र में आ गए और उन्होंने श्रीकृष्ण से कहा की वो वाणासुर को मरने नहीं दे सकते क्योंकि वो उनका भक्त है. इसलिए या तो तुम मुझसे पुनः युद्घ करो अथवा इसे जीवनदान दो.

भगवन शिव ( shiva ) की बात मानकर श्रीकृष्ण ने बाणासुर को मारने का विचार त्याग दिया और महादेव से कहा की हे भगवन जो आपका भक्त हो उसे इस ब्रम्हांड में कोई नहीं मार सकता किन्तु इसने अनिरुद्ध को बंदी बना रखा है. ये सुनकर रुद्र ( shiva ) ने बाणासुर को अनिरुद्ध को मुक्त करने की आज्ञा दी. बाणासुर ने ख़ुशी ख़ुशी अपनी पुत्री का हाथ अनिरुद्ध के हाथ में दिया और श्रीकृष्ण का समुचित सत्कार कर उन्हें विदा किया.

जानिये आखिर क्यों भगवान श्री कृष्ण ने पूरी काशी को अपने सुदर्शन चक्र से किया भस्म, तथा कैसे हुआ काशी का वाराणसी के रूप में पुनर्जन्म !

Mahabharat Story

महाभारत युद्ध सम्पात होने के पश्चात आखिर क्या हुआ ? जाने महाभारत से जुड़े इन टॉप 6 रहस्यों को !

lord shiva, maha bharat, Mahabharat, mahabharat fight days, mahabharat fight place, mahabharat story, mahabharat story in english, mahabharat yudh in hindi, mahabharat yudh place, mahabharata full story, mhabhart yudh

क्या आप जानते है महाभारत के अंत में महादेव शिव ने पांडवो को दिया था पुर्नजन्म का श्राप ?