महाभारत युद्ध सम्पात होने के पश्चात आखिर क्या हुआ ? जाने महाभारत से जुड़े इन टॉप 6 रहस्यों को !

mahabharat katha, mahabharat story in hindi, mahabharata story in hindi, mahabharat katha hindi

mahabharata story in hindi, mahabharata katha in hindi, mahabharat, mahabharata story, mahabharat in hindi, mahabharat katha hindi, read mahabharat katha in hindi, arjuna in mahabharata, full story of mahabharata in hindi, krishna in mahabharata

3 . इस भयावह संहार को रोकने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने अनेको प्रयत्तन किये परन्तु सब विफल रहे. एक दिन भगवान श्री कृष्ण एक वृक्ष के नीचे विश्राम कर रहे तब किसी शिकारी ने उन पर ही निशाना साध दिया.

क्योकि भगवान श्री कृष्ण ने मृत्युलोक में जन्म लिया था अतः यह तो निश्चित था की उन्हें अपना मनुष्य रूपी शरीर एक न एक दिन त्यागना होगा. अतः भगवान श्री कृष्ण अपना शरीर त्याग वैकुंठ धाम की ओर चल दिए .

इसके बाद व्यास जी ने भी युधिस्ठर को यह बता दिया की अब आपके जीवन का उद्देश्य समाप्त हो चुका है.

4 . ये वही समय था जब द्वापर युग बस अपने समाप्ति की ओर था तथा कलयुग का आरम्भ होने वाला था. यही देखते हुए युधिस्ठर ने हस्तिनापुर का राज्य अपने पौत्र परीक्षित को सोप दिया तथा स्वयं चल पड़े हिमालय की ओर, अपने अंतिम यात्रा की तरफ.

युधिस्ठर के इस यात्रा में उनके साथ उनके चारो भाई और द्रोपदी भी उनके साथ चल दी.

5 . हिमालय के रास्ते बहुत ही कष्टों और बाधाओं से भरे हुए थे जहाँ पर यात्रा करना बहुत ही कठिन था. धीरे-धीरे कर सब युधिस्ठर का साथ छोड़ने लगे. आरम्भ हुआ द्रोपदी से तथा अंत में भीम ने अपना शरीर त्यागा.

कारण था अपने घमंड से उपजी अलग अलग परेशानियां. केवल धर्मराज युधिस्ठर ही अपने शरीर के साथ स्वर्ग के द्वारा तक पहुंच पाये इस पूरी यात्रा में एक कुत्ता भी उनके साथ था.

अगला पेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *