जाने दुर्योधन और उसकी पत्नी भानुमति की अनसुलझी एवं रहस्मय कथा !

duryodhana, how did duryodhana died, duryodhana's previous birth, duryodhana and karna friendship, karna and duryodhana fight, karna duryodhana mahabharat, bhanumati in mahabharat, bhanumati swayamvar

Duryodhana :-

क्या आपको पता है दुर्योधन ( duryodhana ) के पत्नी के बारे में नहीं तो आज आपको बताते है इनकी शादी से पहले और बाद की कहानी! दुर्योधन ( duryodhana ) की पत्नी भानुमती थी भानुमति महाभारत की पात्र थी इन्ही पर ये कहावत बनी है कंही की ईंट कंही का रोड़ा, भानुमति ने कुनबा जोड़ा!

भानुमति काम्बोज के राजा चंद्रवर्मा की पुत्री थी, राजा ने इनके लिए विवाह का स्वयंवर रखा. स्वयंवर में शिशुपाल, जरासंध, रुक्मी, वक्र और दुर्योधन ( duryodhana ) -कर्ण समेत कई राजा आमंत्रित थे.

जब भानुमति हाथ में माला लेके अपनी दासियों और अंगरक्षकों के साथ दरबार में आई तो दुर्योधन की उसे देख बांछे खिल उठी.

भानुमति दुर्योधन ( duryodhana ) के सामने आके रुकी और रुक कर फिर आगे बढ़ गई, ये बात दुर्योधन को हजम नहीं हुई और वो भानुमति की तरफ लपका और वरमाला जबरदस्ती अपने गले में डाल ली, इस बात पर विरोध हुआ तो दुर्योधन ( duryodhana ) ने सब योद्धाओ से कर्ण से युद्ध की चुनौती दी जिसमे कर्ण ने सभी को परास्त कर दिया. जबकि जरासंध से जबरदस्त युद्द हुआ, और उसका परिणाम…

जरासंध ने दुर्योधन की बीवी भानुमति के स्वयंवर में भी भाग लिया और जब दुर्योधन ( duryodhana ) जबरन भानुमति को अपनी पत्नी बनाना चाह रहा था तब जरासंध और कर्ण में 21 दिन युद्ध चला जिसमे कर्ण जीता और पुरस्कार में उसने कर्ण को मालिनी का राज्य दे दिया. ये जरासंध की सबसे बड़ी पहली हार थी.

अगला पेज