जानिए घर पर पूजा करने की सही विधि और उससे संबंधित 30 आवश्यक नियम !

pooja, daily pooja vidhi in hindi, hiv pooja vidhi in hindi, adinath bhagwan ki pooja, satyanarayan bhagwan ki pooja, shivratri puja, hindu puja vidhi, daily simple & short puja vidhi, daily pooja vidhi at home in hindi

pooja, daily pooja vidhi in hindi, hiv pooja vidhi in hindi, adinath bhagwan ki pooja, satyanarayan bhagwan ki pooja, shivratri puja, hindu puja vidhi, daily simple & short puja vidhi, daily pooja vidhi at home in hindi

7 . शास्त्रों के अनुसार दिन में 5 बार देवी-देवताओ के पूजन का विधान है. सुबह पांच बजे से छः बजे तक के बर्ह्म मुहूर्त में पूजन और आरती होनी चाहिए. इसके बाद प्रातः 9 बजे से 10 बजे तक दूसरे समय का पूजन ( pooja ) तथा दिन में तीसरे समय का पूजन होना चाहिए. इस पूजन के बाद भगवान को विश्राम करवाना चाहिए इसके बाद शाम 4 – 5 बजे पुनः पूजन और आरती होनी चाहिए. रात को 8 – 9 बजे शयन आरती करनी चाहिए. जिन घरों में नियमित रूप से पांच बार पूजन ( pooja ) होता है वहां देवी-देवताओ का निवास माना जाता है तथा ऐसे घरों में धन-धान्य की कोई भी कमी नहीं होती.

8 . स्त्रियों व पुरुषों द्वारा अपवित्र अवस्था में शंख नहीं बजाना चाहिए. यदि इस नियम का पालन नहीं किया जाए तो घर में बसी लक्ष्मी रूठ जाती है तथा उस घर से चली जाती है.

9 .देवी देवताओ की मूर्ति के सामने कभी भी पीठ करके नहीं बैठना चाहिए.

10 .केतकी का पुष्प शिवलिंग पर अर्पित नहीं करना चाहिए.

11 . भगवान से कोई भी मनोकामना मांगने के बाद उसकी सफलता के लिए दक्षिणा अवश्य चढ़ानी चाहिए. तथा दक्षिणा चढ़ाते समय अपने दोषो को छोड़ने का संकल्प लेना चाहिए. जितने शीघ्र आप अपने उन दोषो को छोड़ोगे आपकी मनोकामनाएं उतनी शीघ्र ही पूरी होगी .

12 . विशेष शुभ कार्यो में भगवान गणेश को चढ़ने वाला दूर्वा ( एक प्रकार की घास ) को कभी भी रविवार को नहीं तोड़ना चाहिए .

13 . यदि आप माँ लक्ष्मी को शीघ्र प्रसन्न करना चाहते हो तो उन्हें रोज कमल का पुष्प अर्पित करें. कमल के फूल को पांच दिनों तक लगातार जल चढ़कर पुनः अर्पित कर सकते है.

आगे पढ़े…