आखिर क्यों दिए थे हनुमान जी ने भीम को अपने शरीर के तीन बाल, एक अनसुनी कथा !

Bheem :-

bheem, bheem and hanuman story, relation between hanuman and bheem, mahabharat bheem hanuman, bhim mahabharat, hanuman, hanuman and bheem in mahabharat, hanuman stories, bhima and hanuman

महाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था तथा इस युद्ध में पांडवो ने कौरवों पर विजयी प्राप्त कर ली थी. ( bheem ) पांडव हस्तिनापुर में खुसी-खुसी अपने दिन काट रहे थे तथा प्रजा को भी राजा युधिस्ठर के रहते किसी चीज की कमी नहीं थी. एक दिन देवऋषि नारद मुनि महाराज युधिस्ठर के सामने प्रकट हुए और कहा यहाँ आप तो खुस लग रहे पर क्या आप को पता है की स्वर्गलोक में आपके पिता बहुत दुखी है.

जब युधिस्ठर ने देवऋषि से इसका कारण पूछा तो वह बोले पाण्डु अपने जीते जी राजसूय यज्ञ कराना चाहते थे जो वे न कर सके इसी बात को लेकर वे दुखी रहते है. महाराज युधिस्ठर ! आपको आपके पिता के आत्मा के शांति के लिए यह यज्ञ करवाना चाहिए.

तब नारद ऋषि के परामर्श पर तथा अपने पिता के आत्मा की शांति के लिए युधिस्ठर ने राजसूय यज्ञ करवाया , तथा इसकी भव्यता के लिए उन्होंने भगवान शिव के परम भक्त ऋषि पुरुष मृगा को आमंत्रित करने का फैसला लिया. ऋषि पुरुष मृगा जैसा की उनका नाम था वे अपने नाम के समान ही जन्म से आधे पुरष शरीर के थे तथा निचे से उनका पैर मृग का था.

युधिस्ठर ने उन्हें यज्ञ में बुलाने था ढूढ़ने का जिम्मा भीम ( bheem ) को दिया. अपने बड़े भ्राता की आज्ञा पाते ही भीम ऋषि पुरुष मृगा को धुंध ने निकल पड़े. जंगल में चलते वक्त भीम को मार्ग में भी हनुमान जी दिखाई दिए जिन्होंने भीम के घमंड को चूर किया .

दोनों ही वायु के पुत्र थे इस लिहाज से से भाई भी थे. जब भीम ( bheem ) हनुमान जी से आज्ञा पाकर अपने मुख्य काम के लिए जा रहे थे तब हनुमान जी ने भीम ( bheem ) को अपने शरीर के तीन बाल दिए थे तथा कहा था की इन्हे अपने पास रखो संकट के समय में ये तुम्हारे काम आएंगे.

bheem, bheem and hanuman story, relation between hanuman and bheem, mahabharat bheem hanuman, bhim mahabharat, hanuman, hanuman and bheem in mahabharat, hanuman stories, bhima and hanuman

कुछ दुरी पर ही चलकर भगवान शिव को पुरुष मृगा मिल गए जो महादेव शिव की स्तुति कर रहे थे. भीम ( bheem ) ने उनके पास जाकर उन्हें प्रणाम किया तथा अपने आने का प्रयोजन बताया. इस पर ऋषि पुरुष मृगा भी उनके साथ चलने को राजी हो गए.

पर इसके साथ ही पुरुष मृगा ने यह शर्त रखी की भीम ( bheem ) को ऋषि पुरुष मृगा से पहले हस्तिनापुर पहुंचना होगा नहीं तो वे उन्हें खा जाएंगे. भीम ने ऋषि पुरुष मृगा की यह शर्त स्वीकार कर ली तथा अपनी पूरी शक्ति के साथ वे हस्तिनापुर की और भागे.

काफी दौड़ने के बाद भागते-भागते भीम ( bheem ) ने जब पीछे की ओर यह जानने के लिए देखा की ऋषि पुरुष मृगा कितने पीछे रह गए तो उन्होंने पाया की ऋषि बस उन्हें पकड़ने ही वाले है. यह देख वो चौक गए और शीघ्रता से भागने लगे तभी उन्हें हनुमान जी के दिए उन तीन बालों की याद आई. भीम ( bheem ) ने उनमे से एक बाल दौड़ते-दौड़ते जमीन में फेक दिया. वह बाल जमीन में गिरते ही लाखो शिवलिंग में परिवर्तित हो गए.

भगवान शिव के परम भक्त होने के कारण ऋषि पुरुष मृगा प्रत्येक शिवलिंग को प्रणाम करते हुए आगे बढ़ने लगे और वही भीम ( bheem ) भी लगातार भागते रहे. जब भीम को लगा की ऋषि अब फिर से उन्हें पकड़ ही लेंगे उन्होंने फिर से एक बाल गिरा दिया और वह बहुत से शिवलिंग में परिवर्तित हो गए.

इस प्रकार से भीम ( bheem ) ने ऐसा तीन बार किया. अंत में जब भीम हस्तिनापुर के द्वार में घुसने ही वाले थे की ऋषि पुरुष मृगा ने उन्हें पीछे से पकड़ लिया, हालाकि भीम ने छलांग लगाई थी परन्तु उनके पैर दरवाजे के बाहर ही रह गए थे.

bheem, bheem and hanuman story, relation between hanuman and bheem, mahabharat bheem hanuman, bhim mahabharat, hanuman, hanuman and bheem in mahabharat, hanuman stories, bhima and hanuman

इस पर पुरुष मृगा ने उन्हें खाना चाहा, इसी दौरान भगवान कृष्ण और युधिस्ठर दरवाजे पर पहुंच गए. दोनों को देखकर युधिस्ठर ने भी बहस करनी शुरू कर दी, तब युधिस्ठर से पुरुष मृग ने न्याय करने को कहा.

तब युधिस्ठर ने ऋषि पुरुष मृगा से कहा की भीम के केवल पैर ही द्वार के बहार रह गए थे अतः आप केवन भीम ( bheem ) के पैर ही खा सकते है. युधिस्ठर के न्याय से ऋषि पुरुष मृगा प्रसन्न हुए तथा उन्होंने भीम ( bheem ) को जीवनदान दिया. इसके बाद ऋषि यज्ञ में भी सम्लित हुए तथा सबको आशीर्वाद दिया.

बजरंग बलि और एक महिला भक्त की अनोखी कथा जो शायद ही पहले आपने कभी सुनी हो !

आखिर क्यों बोलना पड़ा हनुमान जी को प्रभु श्री राम से झूठ, जाने क्या था वह झूठ व उससे जुड़ा राज !