भीष्म ने युधिस्ठर को बताई थी चार महत्वपूर्ण बाते, जिनसे अकाल मृत्यु को भी टाला जा सकता है !

4 things bheema told yudhisthira

4 things bheema told yudhisthira

कभी झूठ न बोलना :-
मनुष्य को सदैव सत्य बोलना चाहिए क्योकि असत्य के सहारे वह कुछ पल के लिए अपने आपको मुसीबत से बचा तो लेता है परन्तु आगे चलकर उसको इस झूठ का बहुत भयंकर परिणाम झेलना पड़ता है. समाज के सामने ऐसे व्यक्ति की छवि धूमिल होने के साथ ही साथ वह व्यक्ति अपने परिवार का प्रेम और विश्वाश भी खो बैठता है. असत्य बोलने वाला व्यक्ति सदैव भयभीत और बेचैन रहता है तथा इसका प्रभाव उसके स्वास्थ पर भी पड़ता है जिस कारण उसकी आयु कम हो जाती है. यदि मनुष्य अपनी लम्बी उम्र चाहता है तो उसे सदैव सत्य बोलना चाहिए क्योकि असत्य का सहारा लेने पर वह सदैव उस असत्य के कारण अंदर से भयभीत रहेगा तथा उसे बहुत सी बीमारिया आ घेरेगी व अंत में वह अपनी पूर्ण आयु जीये बिना ही मृत्यु को प्राप्त हो जायेगा.

छल-कपट न करना :-
जो व्यक्ति सदैव सदाचार का पालन कर अपना जीवन व्यतीत करता है तथा हमेशा छल कपट के भावना से दूर रहता है इस प्रकार के व्यक्ति का मन सदैव प्रसन्न रहता है. मनुष्य को छल-कपट की भावना से बचते हुए अपने आपको ईश्वर भक्ति और समाज के भलाई के कार्यो में लगाना चाहिए. ऐसा कर मनुष्य के मन को बहुत शांति महसूस होती है और शांत मन के कारण मनुष्य को कभी कोई बीमारी नहीं होती तथा कहा भी गया है की शांत मन स्वस्थ शरीर की निशानी होती है. इस गुण का पालन कर मनुष्य अधिक समय तक जीवित रह सकता है.

आगे पढ़े…

2 of 3

Related Post