भगवद गीता का सम्पूर्ण सार है इन 20 अनमोल श्लोको में, जो है मनुष्य की हर परेशानी का हल !

srimad bhagavad gita

Panditbooking वेबसाइट पर आने के लिए हम आपका आभार प्रकट करते है. हमारा उद्देस्य जन जन तक तकनीकी के माध्यम से हिन्दू धर्म का प्रचार व् प्रसार करना है तथा नयी पीढ़ी को अपनी संस्कृति और धार्मिक ग्रंथो के माध्यम से अवगत करना है . Panditbooking से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक से हमारी मोबाइल ऐप डाउनलोड करे जो दैनिक जीवन के लिए बहुत उपयोगी है. इसमें आप बिना इंटरनेट के आरती, चालीसा, मंत्र, पंचांग और वेद- पुराण की कथाएं पढ़ सकते है.

इस लिंक से Android App डाउनलोड करे - Download Now

sloka of bhagwat gita in hindi:

हमारी जिंदगी में सुख और दुःख दोनों लगे हुए है, सुख के समय तो हम खुश रहते है लेकिन दुःख के समय यह हमे पहाड़ सा लगने लगता है और हम भगवान को इसका जिम्मेंदार ठहराने लगते है . परन्तु दुःख या संकट हमारे जिंदगी के लिए आवशयक है क्योकि ये हमे हमारे आगे की जिंदगी के लिए महत्वपूर्ण सबक दे कर जाते है तथा जब भी हमारे जिंदगी में दुःख या संकट आते है तब भगवान हमारी मदद करते है व हमे उससे लड़ने की ताकत देते है.

 bhagavad gita, bhagavad gita quotes in hindi, bhagvad gita, bhagwat gita in hindi full, bhagwat geeta, bhagwad gita, bhagwat gita, srimad bhagavad gita, bhagavad gita in hindi, bhagavad gita summary in hindi

ये भी पढ़े... अगर आप धन की कमी से परेशान है या फिर आर्थिक संकट से झूझ रहे है या धन आपके हाथ में नहीं रुकता तो एक बार श्री महालक्ष्मी यन्त्र जरूर आजमाएं !

हिन्दू धर्म के पवित्र ग्रन्थ भगवद गीता (srimad bhagavad gita ) में यह बताया गया है की मनुष्य अपने जीवन को किस तरह बेहतर ढंग से जी सकता है और अपने हर परेशानियों पर विजय पा सकता है. भगवान श्री कृष्ण ने महाभारत के युद्ध के दौरान करुक्षेत्र में अर्जुन को भगवद गीता का ज्ञान दिया था. भगवद गीता में 18 अध्याय और लगभग 700 श्लोक है जिनमे में जीवन के हर समस्या का समाधान करने का उपाय है.भगवत गीता के ये श्लोक सिर्फ़ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशो में भी लोगो के मार्गदर्शक है तथा भगवद गीता एक नई दिशा प्रदान करने वाला ग्रन्थ है. आइये जानते है भगवत गीता के वे 20 श्लोक के सार जो निश्चित ही आपमें एक नई ऊर्जा भर देंगे !

आगे पढ़े…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *