साईं बाबा के दिए ये 7 अनमोल ज्ञान, जो बदल सकते है हर किसी की तकदीर !

sai baba ke 7 vachan:

साईं बाबा के नाम से कोई विरला व्यक्ति ही होगा जो अपरिचित हो साईं बाबा के भक्त उन्हें ईश्वर का ही अवतार मानते है. शिर्डी में साईं बाबा ने अनेक ऐसे असम्भव चमत्कार किये थे जिन्हे देख सभी आश्चर्यचकित रह गए थे. साईं बाबा का जीवन का उद्देश्य दुखियो के दुःख को दूर करना व सबका कल्याण करना था. साईं बाबा ने कभी भी अपने आप को भगवान नहीं बतलाया फिर भी उनके भक्तो एवं अनुयायियों की इतनी बड़ी संख्या के होने का कारण उनका साईं बाबा के प्रति अत्यधिक अटूट विश्वाश है. उन्होंने हमेशा आध्यमिकता का पाठ पढ़ाया तथा वे हमेशा सब को समझाते थे की ईश्वर एक ही है. उनके अद्भत चमत्कारों के कारण दूर-दूर से लोग उनके दर्शन को शिर्डी आते थे तथा धीरे धीरे साईं बाबा प्रसिद्ध संत के रूप में जाने जाने लगे. आज पुरे देश-भर में साईं बाबा को पूजा जाता है तथा साईं बाबा के मंदिर शिर्डी में साईं बाबा के दर्शन के लिए हजारो भक्तो की भीड़ लगी रहती है. साईं बाबा इस विश्व को सात अनमोल ज्ञान देकर गए है जिनका पालन करने से कोई भी व्यक्ति अपने जीवन को बदल सकता है तथा अपने हर कार्य में सफलता प्राप्त कर सकता है.

1 . एक मजबूत घर का निर्माण उसके मजबूत नींव पर टिका होता है, यदि नींव ही कमजोर हो तो पूरा घर पल-भर में ढह जाता है. यही सिद्धांत मनुष्य पर भी लागू होता है यदि मनुष्य भीतर से ही मजबूत नहीं होगा तो इस दुनिया में आसानी से वह अन्य लोगो द्वारा कुचल दिया जायेगा तथा भ्रम की दुनिया में गिर कर वह अपने आप को खो देगा.

 shirdi sai baba quotes, shirdi sai baba miracle stories, sai baba quote of the day, sai baba miracles, sri sai baba, sai baba thought for the day, your saibaba, shirdi sai bhajans, shirdi sai baba aarti, shirdi sai baba temple

2 . मनुष्य को उस कमल के भांति होना चाहिए, जो सूर्य के प्रकाश में अपने पंखुड़ियों को खोल देती है अर्थात मनुष्य में हर परिस्थिति से टकराने की हिम्मत होनी चाहिए. मनुष्य को अपने आप को उस कमल के पुष्प के समान बनना चाहिए जो कीचड़ में खिलता है परन्तु फिर भी लोग उसके खिलने के स्थान को भूल उसकी सुंदरता से आकर्षित हो उसकी प्रशंसा करते है.

3 . मनुष्य का सबसे बड़ा गुरु उसका अनुभव होता है क्योकि अपने अच्छे-बुरे अनुभवों के माध्यम से ही वह अनेक चीजे सीखता है. आध्यात्मिक पथ भी अनेक प्रकार के अनुभवों से भरा पडा है तथा इसमें मनुष्य को अनेक प्रकार की बाधाओं और मुश्किलों से होकर गुजरना पड़ता है. इससे मनुष्य को वे सारे अनुभव मिलते है जो उसे प्रोत्साहित करते है व उसकी सफलता में महत्वपूर्ण योगदान देते है.

4 . हमे दुनिया के चमक-धमक को छोड़ अपने मुख्य उद्देश्य की तरफ ध्यान देना चाहिए. क्योकि दुनिया में क्या नया है ? कुछ भी नहीं. क्या पुराना ? कुछ भी नहीं . सब कुछ यहाँ पहले से ही रहा है और हमेशा रहेगा.

5 . मनुष्य जो भी कार्य करता है वह सब उसके विचार का ही परिणाम होता है. अतः विचार महत्वपूर्ण होते है और हमारे में जीवन में अत्यधिक मायने रखते है.

6 . बर्ह्माण्ड को देखो और ईश्वर की महिमा का वर्णन करो. आसमान में उपस्थित सभी एक साथ दिखाई देने वाले तारे विश्व को एकता में बंधे रहना का संकेत देते है, ये सभी ईश्वर के स्वभाव का एक अंग होते है.

7 . इस संसार में प्रेम सबसे बड़ी शक्ति है हम सभी को हर किसी से प्रेम करना चाहिये व दूसरों की मदद करनी चाहिए. प्रेम हर प्रकार के चोट, घाव व किसी भी प्रकार के संक्रामक को भरने वाली सबसे बड़ी ऊर्जा होती है.

जानिए गुप्त नवरात्री तथा उससे जुड़े 10 महाशक्तिशाली मन्त्र जिनसे होती है सभी मनोकामनाएं पूर्ण !

जानिए अपने राशियों के अनुसार नवरात्रो में कैसे प्राप्त करें माँ दुर्गा की विशेष कृपा !