Related Posts

Maa Durga Avtar Kushmanda

माँ दुर्गा की चौथा स्वरूप है देवी कुष्मांडा, जाने देवी कुष्मांडा को प्रसन्न करने की पूजा विधि !

नवरात्रे के चौथे ( 4th Day of Navaratri ) दिन माँ दुर्गा ( Durga ) के चौथे रूप देवी कुष्मांडा की पूजा ( Kushmanda Devi Puja ) की जाती है. देवी कुष्मांडा के नाम के पीछे का रहस्य यह है की जब पूरा ब्रह्माण्ड चारो ओर से अंधकार से घिरा हुआ था तथा कही पर भी जीवन का नामो-निशान नहीं था तब आदिशक्ति दुर्गा ने अपने चौथे स्वरूप द्वारा सृष्टि की सरंचना की जिस कारण उनके चौथे रूप को कुष्मांडा नाम दिया गया. माता कुष्मांडा ( Godess Kushmanda ) का निवास सूर्यलोक में माना जाता है व इनके तेज से दशो दिशाएं आलोकित रहती है. माता के शरीर की कांति और प्रभा सूर्य के समान दैदीप्यमान है.

माता कुष्मांडा ( Devi Kushmanda ) की सवारी सिंह है तथा इनकी आठ भुजाएं है जिनमे माता ने कमंडल, कमल-पुष्प, कलश, शंख, धनुष, बाण, गदा, तथा समस्त ऋद्धि-सिद्धियो को से पूर्ण जप माला धारण करी हुई है. माता कुष्मांडा ( Kushmanda ) की भक्ति से भक्तो को उनके सभी प्रकार के रोग एवं कष्टों से मुक्ति मिलती है. इनकी उपासना से यश, आयु, बल आदि में वृद्धि होती है. माता कुष्मांडा अपने अपने भक्तो की पूजा से जल्दी प्रसन्न हो जाती अतः सच्चे मन से माता की पूजा ( Kushmanda Mata Pooja ) कर कोई भी भक्त परम पद को प्राप्त कर सकता है.

पूजा विधि :-
सवर्प्रथम स्नान आदि से निर्मित होकर देवी कुष्मांडा ( Devi Kushmanda ) की छवि का अपने मन में स्मरण करे इसके बाद कलश और उसमे विराजमान समस्त देवी देवताओ की पूजा करे फिर माता के परिवार में विराजमान सभी देवियो की पूजा करें. अगर सम्भव हो तो बड़े माथे वाली विवाहित तेजस्वी महिला का पूजन करना चाहिए. माता को भोजन में दही, हलवा प्रिय है इसका भोग माता ( Kushmanda Devi Bhog ) को कराना श्रेयस्कर होता है. फल, सूखे मेवे तथा सौभग्य का समान चढ़ाने से माता प्रसन्न होती है तथा सभी मनोवांछित फल प्रदान करती है.
इस दिन माता कुष्मांडा ( Devi Kushmanda Mantra ) के निम्न जप का जाप करना चाहिए.
या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कूष्माण्डा रूपेण संस्थिता.
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:.

अर्थ :- हे माँ ! आप हर जगह व्याप्त है, माँ अम्बे आपके चौथे रूप देवी कुष्मांडा ( Devi Kushmanda ) के चरणों में मेरा बारंबार प्रणाम. हे माँ, मुझे मेरे पापो से मुक्ति प्रदान करें.

कैसे करें इस साल के नवरात्रो में माँ दुर्गा की पूजा और जाने कौन सा मुहर्त है शुभ माँ के कलश स्थापना के लिए !

जानिए गुप्त नवरात्री तथा उससे जुड़े 10 महाशक्तिशाली मन्त्र जिनसे होती है सभी मनोकामनाएं पूर्ण !

meghnath ramayan

युद्ध में एक बार स्वयं भगवान श्री राम और दो बार लक्ष्मण को हराने वाला योद्धा मेघनाद, जाने इस योद्धा से जुड़े अनसुने रहस्य !

Meghnath ka janam kaise hua वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण ramayan के अनुसार जब मेघनाद का जन्म हुआ तो वह समान्य शिशुओं की तरह रोया नहीं

related posts

meghnath ramayan

युद्ध में एक बार स्वयं भगवान श्री राम और दो बार लक्ष्मण को हराने वाला योद्धा मेघनाद, जाने इस योद्धा से जुड़े अनसुने रहस्य !

Meghnath ka janam kaise hua वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण ramayan के अनुसार जब मेघनाद का जन्म हुआ तो वह समान्य

Read More
meghnath ramayan

युद्ध में एक बार स्वयं भगवान श्री राम और दो बार लक्ष्मण को हराने वाला योद्धा मेघनाद, जाने इस योद्धा से जुड़े अनसुने रहस्य !

Meghnath ka janam kaise hua वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण ramayan के अनुसार जब मेघनाद का जन्म हुआ तो वह समान्य