नवरात्री के सातवें दिन जाने कैसे करे माँ भगवती के सातवें स्वरूप को प्रसन्न !

maa bhagwati puja vidhi

maa bhagwati puja vidhi

नवरात्री ( Navratri ) के सातवें दिन माता भगवती के सातवें स्वरूप माँ काली ( Devi kali ) की पूजा-आराधना की जाती है. माता भगवती का यह रूप विकराल है, इनके शरीर का रंग अंधकार के समान काला है व इनके केश बिखरे हुए है. इनके गले में बिजली की समान चमक वाली माला लटकी हुई है. माँ काली के तीनो नेत्र ब्रह्माण्ड के तरह विशाल एवं गोल है जिनसे बिजली के समान रौशनी निकलती है. माँ काली ( Dus Mahavidya Maa Kali ) अपनी नासिका से जब भी अपनी श्वाश बाहर छोड़ती है तो उसी के साथ भयंकर अग्नि भी निकलती है.माता ने यह रूप दुष्टों के विनाश तथा अपने भक्तो के कल्याण के लिए लिया था. माता के इस भयंकर एवं विकराल रूप के कारण ही उनका नाम कालरात्रि ( Kalratri ) पडा.

माँ देवी कालरात्रि ( Kali Mata ) ही महामाया है व भगवान विष्णु ( Lord Vishnu ) की योगनिद्रा कहलाती है. जब मधु, कैटभ जैसे भयंकर दानवो ने स्वर्गलोक में उत्पात मचाया था तो देवताओ के अनुरोध पर स्वयं ब्र्ह्मा जी ने माँ काली के मंत्रो के उच्चारण द्वारा भगवान विष्णु को उनकी योगनिद्रा से जगाया था. माँ काली ( maa Kali Puja In Navratri ) की माया के कारण ही पूरा संसार एक-दूसरे से जुड़ा हुआ है. माँ काली अपने भक्तो को शुभ फल प्रदान करती है अतः इनको शुभंकरी के नाम से भी जाना जाता है.

पूजा विधि ( Navratri Puja Vidhi Home ) :-

एक वेधी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता.
लम्बोष्ठी कर्णिकाकणी तैलाभ्यक्तशरीरिणी.
वामपदोल्लसल्लोहलताकण्टक भूषणा.
वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी.

नवरात्र के सातवें दिन तांत्रिक क्रियाओं में सक्रिय साधको के लिए देवी काली की पूजा ( Kali Puja ) का बहुत ही अत्यधिक महत्व है. आज के दिन साधक को सफेद रंग के कपडे पहनने चाहिए तथा सवर्प्रथम कलश( Klash ) एवं उसमे उपस्थित सभी देवी देवताओ का नाम लेते हुए उनकी पूजा करनी चाहिए. इसके बाद माता काली के मंत्रो का जाप ( Navratri Puja Mantra ) करते हुए उन्हें फूल व मिठाई अर्पित कर उनकी पूजा करनी चाहिए. साथ ही आज के दिन गरीबो को कोई वास्तु दान करना परिवार के लिए मंगलकारी होता है. आज के दिन माता अपने भक्तो के लिए अपना द्वारा खोल देती है तथा जो भी माता की श्रद्धा के साथ पूजा करता है माता उसको उसके सभी मुसीबतों और संकटो से मुक्त कर देती है व उसका घर खुसियो से भर देती है.

माँ दुर्गा की चौथा स्वरूप है देवी कुष्मांडा, जाने देवी कुष्मांडा को प्रसन्न करने की पूजा विधि !

जाने देवी दुर्गा के नवरात्र के सबसे पहले व्रतों को करने वाली भक्त की कथा !