जाने आखिर क्या कारण था रावण के भाई कुम्भकर्ण के छः महीने सोने का रहस्य और उससे जुडी कुछ रोचक बाते !

ramayan in hindi, ramayan in hindi story, Ravan - King Of Lanka, ravan shiv tandav stotram, kumbhkarn, kumbhkaran history in hindi, ramayan, valmiki ramayana, ramanand sagar ramayan, kumbhakarna in hindi, kumbhkaran story

Kumbhkaran Story:

रामयण  की कथा तो हम अपने बचपन से ही सुनते आ रहे है और इस कथा के मशहूर पात्र राम, लक्ष्मण, दशरथ , देवी सीता, हनुमान और पूरा रावण खादान से भी हम भली भाति परिचित है. परन्तु आज आप रामायण के पात्र कुम्भकर्ण ( kumbhkaran ) जिंसके बारे में निश्चित ही बहुत कम लोग जानते होंगे.

कुम्भकर्ण ( kumbhkaran ) के छः महीने सोने का रहस्य :-

जैसा की आप जानते है रामायण  की कथा अनुसार रावण के कनिष्ठ भ्राता कुम्भकर्ण ( kumbhkaran ) को ब्र्ह्मा जी का वरदान प्राप्त था की वह छः महीने सोएगा और छः महीन जगेगा. तथा जब रावण को लगा की उसकी सेना अब राम की सेना से युद्ध करने के लिए अपर्याप्त है तो उसने अपने भाई कुम्भकर्ण  को उनका नेतृत्व करने के लिए जगाया जिस कार्य के लिए रावण और उसके सेवको को काफी मुश्क्तिल का सामना करना पड़ा.

खैर ये तो रामायण की चर्चित कथाओ में से एक है परन्तु अब हम आपको कुम्भकर्ण ( kumbhkaran ) के दूसरे रूप के पहलुओं की ओर मोड़ने वाले है जो बहुत ही रहस्मय होने के साथ ही रोचक भी है. ऐसा कहा जाता है की रावण अपने समय का सर्वाधिक विद्वान और ज्ञानी व्यक्ति है तथा उसके खानदान में एक से बढ़कर एक धुरंधर पड़े थे जिनकी बौद्धिक क्षमता तत्कालीन युग में अतुलनीय थी.

परन्तु इन में से कुम्भकर्ण ( kumbhkaran ) एक ऐसा व्यक्ति था जिस की कहानी सचमुच में हैरान करने वाली है. रामायण  में बताया गया है की वह छः महीन सोता था परन्तु आखिर एक परम ज्ञानी ऋषि सोकर अपना जीवन क्यों व्यतीत करेगा.

आगे पढ़े…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *