बद्रीनाथ से जुडी एक रोचक कथा, जब भगवान शिव को गंवाना पडा अपना ही घर !

story about badrinath, badrinath history in hindi

story about badrinath:

बद्रीनाथ के संबंध में पुराणों में एक अनोखी कथा मिलती है जिसमे भगवान विष्णु ने अपनी लीला द्वारा महादेव शिव और माता पार्वती का घर छीन लिया था. जहा आज बद्रीनाथ का पवित्र मंदिर स्थित है वहां पहले भगवान शिव और माता पार्वती का घर हुआ करता था.

एक बार नारद मुनि वैकुंठ धाम भगवान विष्णु से भेट करने गए तो उन्होंने पाया की भगवान विष्णु शेष नाग की शैया में विश्राम कर रहे है. उन्हें इस तरह लेटे देखकर नारद मुनि ने उन्हें उनकी विश्राम अवस्था से जगाया तथा उनसे शिकायत करने के अंदाज में बोले, भगवन ! आप सम्पूर्ण मानवता के लिए एक बुरे उदाहरण बनते जा रहे हो तथा हर समय आप इसी तरह लेटे रहते हो.

माता लक्ष्मी आपकी सेवा में लगी रहती है तथा आप आलस भरते रहते हो. आप इस तरह अपना समय व्यतीत करेंगे तो जगत के लिए आप बिलकुल भी अच्छे उदाहरण नहीं रह जायेंगे. नारद मुनि की बात सुन भगवान विष्णु अपने इस समालोचना से मुक्त होने के लिए हिमालय आये व तपस्या के लिए कोई शांत एवं पवित्र स्थान ढूढ़ने लगे. जब अपनी तपस्या के लिए स्थान ढूढ़ते हुए भगवान विष्णु ने बद्रीनाथ को देखा तो वह स्थान उन्हें बहुत पसंद आया.

बद्रीनाथ बिलकुल वैसा ही स्थान था जैसा भगवान विष्णु ने अपने तपस्या के लिए सोचा था. तभी भगवान विष्णु को वहां पर एक कुटिया दिखाई दी, जब वे उस कुटिया के दरवाजे के समीप गए तो अंदर उन्होंने माता पार्वती और भगवान शिव को पाया. भगवान विष्णु अपने मन में सोचने लगे की यह कुटिया तो भगवान शिव और माता पर्वती का घर है यदि में इनके घर में घुसा तो बहुत ही भयानक होगा, क्योकि भगवान शिव का क्रोध बहुत ही भयानक होता है.

शेष अगले पेज पर पढ़े…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *