जानिए भगवान विष्णु के परम भक्त की कथा, नन्द से कैसे बने देवऋषि नारद !

lord_vishnu
Panditbooking वेबसाइट पर आने के लिए हम आपका आभार प्रकट करते है. हमारा उद्देस्य जन जन तक तकनीकी के माध्यम से हिन्दू धर्म का प्रचार व् प्रसार करना है तथा नयी पीढ़ी को अपनी संस्कृति और धार्मिक ग्रंथो के माध्यम से अवगत करना है . Panditbooking से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक से हमारी मोबाइल ऐप डाउनलोड करे जो दैनिक जीवन के लिए बहुत उपयोगी है. इसमें आप बिना इंटरनेट के आरती, चालीसा, मंत्र, पंचांग और वेद- पुराण की कथाएं पढ़ सकते है.

इस लिंक से Android App डाउनलोड करे - Download Now

प्रभास क्षेत्र में ऋषियों का एक आश्रम था जहा नन्द नामक एक दासी पुत्र उन ऋषियों की सेवा किया करते थे. आश्रम में निवास करने वाले समस्त ऋषि नन्द के सेवाभाव एवं निष्ठां से प्रसन्न थे तथा नन्द को अपने पुत्र के ही समान मानते थे. नन्द भी उनके लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने के लिए सदेव तत्तपर रहते थे. धीरे धीरे नन्द का आश्रम में रहते हुए वैदिक वातावरण और उनकी सेवा भाव से समस्त पाप नष्ट होने लगा. उसका चित शुद्ध और पवित्र हो गया तथा वह अब भगवान की लीलाओ के गुणगान में व्यस्त रहने लगा.

ये भी पढ़े... अगर आप धन की कमी से परेशान है या फिर आर्थिक संकट से झूझ रहे है या धन आपके हाथ में नहीं रुकता तो एक बार श्री महालक्ष्मी यन्त्र जरूर आजमाएं !

कुछ समय बाद ऋषियों ने आश्रम छोड़ नए स्थान पर जाने का निश्चय किया. जब नन्द को इस बात का पता लगा तो वे ऋषिगण के पास गए तथा उनसे बोले हे ऋषिगणों ! मेने अनेक वर्षो तक आपकी सेवा करी है, दिन रात आपके निकट रहने के कारण मेरा मन सांसारिक बंधनो से विरकत हो गया है आपके बिना रहने की में कल्पना भी नही कर सकता अतः आप मुझे अपने साथ ले चले. उसकी प्रेम भरी विनती सुन ऋषि बोले हम भी तुम से पृथक नही होना चाहते परन्तु इस संसार में तुम अकेले नही हो. तुम अपनी माता का एकमात्र सहारा हो सन्यास ग्रहण करने के लिए तुम उन्हें त्याग नही सकते. अतः तुम अपनी माता की सेवा करते हुए यही प्रभु भक्ति में ध्यान लगाओ.

आगे पढ़े…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *