सुन्दर कांड से जुडी है यह पांच विशेष बातें जिनसे बहुत कम ही लोग है परिचित !

sunderkand ke labh in hindi, sunderkand ke labh, sunderkand path se labh, sunderkand ke fayde, sunderkand padhne ki vidhi, सुंदरकांड का पाठ, सुंदरकांड के लाभ, सुन्दरकाण्ड के टोटके, सुंदरकांड का महत्व, sunderkand ke chamatkar, सुन्दरकाण्ड पाठ के लाभ

5 unheard things about sundarkand

Sunderkand ke labh in hindi:

हम बचपन से ही रामयण सुनते-देखते आ रहे है, हर साल हमारे शहर या गाव के आस पास दशहरे के अवसर पर रामलीला आयोजित कराई जाती है. रामायण की कथा तो बहुत सुन्दर है ही इसके साथ ही इसमें आये सुन्दर कांड का वर्णन रामयण की कथा को अत्यधिक सुन्दर और मनभावन बना देता है.  सुन्दर कांड में प्रभु श्री राम के परम प्रिय भक्त हनुमान जी की लीलाओ का वर्णन किया गया है उनके द्वारा की गयी अद्भुत और मन को हरने वाली लीलाओ के कारण ही गोस्वामी तुलसीदास  ने इसे सुन्दर कांड का नाम दिया. सुन्दरकाण्ड में श्री हनुमानजी की सुन्दर लीला का वर्णन तो है ही साथ ही साथ उसमें राजनीति, ज्ञान, कर्म और भक्ति इत्यादि का सुन्दर दर्शन है. भक्त कैसा होना चाहिए? वह ज्ञान भक्ति और कर्म युक्त होना चाहिए. उसके जीवन मे ज्ञान भक्ति और कर्म का समन्वय होना चाहिए.  हनुमानजी का जीवन-ज्ञान भक्ति और कर्म युक्त है, इन तीनो बातोंका समन्वय उनके जीवन में दिखाई देता है उसका दर्शन सुन्दरकाण्ड में है. आइये जानते सुन्दर कांड से जुडी पांच महत्वपूर्ण बातें-

1. सुन्दर कांड के लाभ :

हिन्दू धर्म में शुभ अवसरों व कार्यो  में गोस्वमी तुलसीदास के द्वारा रचित सुन्दर कांड का पाठ कराने का प्रावधान है, शुभ कार्यो को आरम्भ करने के लिए सर्वप्रथम सुन्दर कांड के पाठ का विशेष महत्व माना जाता है.शस्त्रों में कहा गया है की सुन्दर कांड के पाठ कराने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है तथा आत्मा शांति के साथ ही घर में सुख समृद्धि आती है. यदि किसी के घर में अनेक परेशानिया या खराब परस्थिति चल रही है तो वह सुन्दर कांड के पाठ द्वारा इन परिस्थितियों से पार पा सकता है यहा तक की ज्योतिष भी इस तरह की समस्याओ से मुक्ति के लिए सुन्दर कांड पाठ करने की सलाह देते है.

2. सुन्दर कांड का पाठ विशेष रूप से क्यों किया जाता है:

सुन्दर कांड के पाठ से महावीर हनुमान अति शीघ्र प्रसन्न हो जाते है व इस पाठ से बजरंग बलि की कृपा बहुत जल्दी मिलती है. जो लोग नियमित रूप से सुन्दर कांड करते है उनके घर में हमेसा समृद्धि बनी रहती है तथा उन्हें किसी भी प्रकार का दुःख छूटा तक नही. सुन्दर कांड में हनुमान जी अपनी बल और बुद्धि के बल पर माता सीता की खोज की थी अतः यह पाठ हनुमान जी की सफलता को दर्शाता है और उनके भक्तो को प्रेरित करता है.

3. सुन्दर कांड के धार्मिक लाभ:

वेदो और शास्त्रो में पवन पुत्र हनुमान जी की कृपा पाने के लिए अनेक उपाय सुझाये गए है इन सभी उपयो में से विशेष है सुन्दर कांड का पाठ क्योकि इसके द्वारा न केवल हनुमान जी प्रसन्न होते है बल्कि प्रभु राम की कृपा भी प्राप्त होती है. किसी भी प्रकार की परेशानी हो सुंदरकाणड कें पाठ सें दुर हो जाती हैं , यह ऐक श्रेष्ठ और सरल उपाय है , इसी वजह सें काफी लोग सुंदरकाणड का पाठ नियमित रूप सें करते हैं. हनुमानजी जो कि वानर थें, वे समुद्र को लांघकर लंका पहुंच गए वहां सीता की खोज की , लंका को जलाया सीता का संदेश लेकर श्रीराम के पास लौट आए. यह एक भक्त की जीत का काण्ड हैं , जो अपनी इच्छाशक्ति के बल पर इतना बड़ा चमत्कार कर सकता है , सुंदरकाणड में जीवन की सफलता के महत्वपूर्ण सूत्र भी दिए गए हैं , इसलिए पुरी रामायण में सुंदरकाणड को सबसें श्रेष्ठ माना जाता हैं ती है. सुन्दर कांड की पूजा के द्वारा समस्त मनवांछित फल प्राप्त होते है.

4. सुन्दर कांड का मनोवैज्ञानिक लाभ:

वास्तव में श्रीरामचरितमानस कें सुंदरकाणड की कथा सबसे अलग हैं , संपूर्ण श्रीरामचरितमानस भगवान श्रीराम कें गुणों और उनके पुरूषार्थ को दर्शाती हैं , सुंदरकाणड एकमात्र   ऐसा अध्याय  हैं जो श्रीराम कें भक्त हनुमान की विजय का काण्ड हैं.
मनोवैज्ञानिक नजरिए सें देखा जाए तो यह आत्मविश्वास और इच्छाशक्ति बढ़ाने वाला काण्ड हैं , सुंदरकाणड कें पाठ सें व्यक्ति को मानसिक शक्ति प्राप्त होती हैं , किसी भी कार्य को पुर्ण करनें कें लिए आत्मविश्वास मिलता हैं .

5. सुन्दर कांड का नाम कैसे पड़ा:

महावीर हनुमान माता सीता की खोज में लंका गए तथा वहा अशोक वटिका के एक वृक्ष के नीचे उन्हें माता सीता मिली.अशोक वाटिका में हनुमान जी द्वारा रची गई अनोखी व अद्भुत लीला के कारण  गोस्वामी तुलसीदास ने उनकी लीलाओ को सुन्दर कांड का नाम दिया !

अब आप बिना Internet अपने फ़ोन पर पंचांग, राशिफल, आरती, चालीसा, व्रत कथा, पौराणिक कथाएं और प्रमुख एवं अजीबो गरीब मंदिरो की जानकारी प्राप्त कर सकते है ! Click here to download

बजरंग बली से जुडी कुछ अनोखी कथाएं!