जानिए महाशम्भु भगवान शिव के समस्त 19 अवतारों के बारे में !

19 avatars of lord shiva

19 avatars of lord shiva

19 avatars of lord shiva:

जैसे भगवान विष्णु समय-समय पर अपने भक्तो के लिए धरती पर अनेको अवतार के रूप में अवतरित हुए  उसी तरह भगवान शिव ने भी अनेक अवतार लिए जिनमे कुछ अवतारों में उन्होंने अपने भक्तो को महत्वपूर्ण शिक्षा दी तो कुछ अवतार उन्होंने दुष्टो के नाश  के लिए लिया  भगवान शिव का हर अवतार उनके भक्तो के कल्याण के लिए था . शिवमहापुराण  के अनुसार भगवान शिव के अब तक 19 अवतार हुए है. आइये जानते है इन भगवान शिव के इन सभी अवतारों के बारे में ;

1.. यतिनाथ अवतार;- भगवान शिव ने यतिनाथ अवतार अथिति के महत्वता को अपने भक्तो के समक्ष रखने के लिए लिया था. पौराणिक कथा के अनुसार अर्बुदाचल पर्वत के निकट आहुक व आहुका भील दम्पति रहते थे. एक दिन भगवान शिव यतिनाथ के भेष में उनके कुटिया में आये तथा उनसे रहने के लिए स्थान माँगा. अपने घर में आये अतिथि  को देख दोनों दम्पति उनके अतिथि सत्कार में जुट गए तथा उनकी सेवा में कोई कमी ना आने दी. रात्रि के समय दोनों दम्पति ने यतिनाथ को कुटिया के अंदर विश्राम करने के लिए कहा तथा स्वयं दोनो कुटिया के बहार पहरा देंने लगे. मध्य रात्रि के समय उनके कुटिया के बहार एक जंगली जानवर आ गया अतिथि की रक्षा के लिए आहुक उस जानवर का वध करने गया तथा उस जानवर को मार दिया परन्तु इस युद्ध  में वह खुद भी मारा गया. अपने पती को मृत देख आहुका शोक से अपने पती के शरीर के पास बैठ गई. सुबह जब यति कुटिया से बाहर आये तो वे आहुक को मृत देख दुखी हुए. उन्हें दुखी देख आहुका बोली की आप क्यों दुखी होते है, अतिथि धर्म के लिए प्राण न्योछावर करना हम दोनो के लिए ही सौभग्य की बात है ऐसा कर मेरे पती धन्य हो गए है. अपने पती के चिता में सती होने से पूर्व आहुका को यतिनाथ ने भगवान शिव के रूप में प्रकट होकर दर्शन दिया तथा उसे उसके अगले जन्म में पुनः उसके पती से मिलने का वरदान दिया.